scriptMP health: Lungs are getting weakened due to polluted air in jabalpur | MP health: इस शहर में दूषित हवा से कमजोर हो रहे हैं फेफड़े, बन रहे गंभीर रोगी | Patrika News

MP health: इस शहर में दूषित हवा से कमजोर हो रहे हैं फेफड़े, बन रहे गंभीर रोगी

सीओपीडी डे आज : क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज के मामले बढ़े

जबलपुर

Published: November 18, 2021 02:14:50 pm

जबलपुर। बढ़ते प्रदूषण के साथ दूषित हो रही हवा लोगों के फेफड़े को कमजोर कर रही है। धुआं और धूप में सांस लेने से क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) की जकड़ में लोग जल्दी आ रहे हैं। शहर के अस्पतालों में प्रतिवर्ष सीओपीडी के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज की पलमोनरी मेडिसिन ओपीडी में श्वसन सम्बंधी समस्या लेकर आ रहे मरीजों में एक तिहाई सीओपीडी से पीडि़त मिल रहे हैं। इसमें ज्यादातर मरीजों के फेफड़ों में धुएं का बुरा प्रभाव देखने में आ रहा है। रोग की पहचान और इलाज में देरी से मरीज की सेहत को गम्भीर नुकसान पहुंच रहा है।

MP health
MP health

कम उम्र में आ रहे इस बीमारी से पीडि़त
- 55 और 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोग पहले पीडि़त मिलते थे।
- 50 साल की उम्र में भी अब सीओपीडी से पीडि़त मिल रहे हैं।

ओपीडी में एक तिहाई मरीज सीओपीडी के
- 130-150 मरीज प्रतिदिन पल्मोनरी मेडिसिन ओपीडी में आ रहे हैं
- 40-50 मरीज इसमें परीक्षण में सीओपीडी से पीडि़त मिल रहे हैं।
(आंकड़े नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज से प्राप्त जानकारी के अनुसार)

lungs1.jpeg

धीरे-धीरे बढ़ती है बीमारी
सीओपीडी के शुरुआती लक्षण काफी कुछ अस्थमा के जैसे होते है। सूखी खांसी और सांस फूलने की समस्या होती है। लेकिन, अस्थमा बीच में नियंत्रित हो जाता है। सीओपीडी अंदर ही अंदर धीरे-धीरे बढ़ता जाता है। संक्रमण फैलने के साथ बार-बार जुकाम और सुस्ती महसूस होती है। बलगम के साथ खांसी आने लगती है। श्वसन सम्बंधी अन्य संक्रमण के साथ कई बार थकान की समस्या होती है।

धूम्रपान भी है कारण
मेडिकल कॉलेज में नए मिल रहे सीओपीडी के ज्यादातर मरीजों की धूम्रपान की हिस्ट्री मिल रही है। धूम्रपान की बढ़ती लत से ही अब कम उम्र में सीओपीडी के मरीज सामने आ रहे हैं। कुछ पीडि़त ऐसे भी हैं, जो स्वयं धूम्रपान नहीं करते, लेकिन ऐसा करने वाले दूसरे व्यक्ति के सम्पर्क में आने से सीओपीडी के घेरे में आ गए। कारखानों के धुएं, दूषित हवा और धूल में सांस लेने से भी सीओपीडी बढ़ रहा है।

एक्सपर्ट कमेंट्स
सीओपीडी के मरीज धीरे-धीरे बढ़ रहें हैं। लगभग आधे मरीज धुएं के सम्पर्क में ज्यादा रहने से सीओपीडी से पीडि़त मिल रहे हैं। इसमें धूम्रपान एक बड़ी वजह है। प्रदूषण के कारण भी सांस और फेफड़ा सम्बंधी रोग बढ़ा है। रोग बढऩे पर फेफड़े ठीक से काम नहीं कर पाते। ऑक्सीजन खींचकर कार्बन डाय ऑक्साइड को बाहर न फेंक पाने से मरीज की सेहत बिगड़ती है। सीओपीडी की समय पर जांच और उपचार आवश्यक है। इसे नियमित दवा से नियंत्रित किया जा सकता है।
- डॉ. जितेंद्र कुमार भार्गव, डायरेक्टर स्कूल ऑफ एक्सीलेंस इन पलमोनरी मेडिसिन, मेडिकल कॉलेज

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.