अब निजी कंपनी के हवाले होंगी हाईकोर्ट की परीक्षाएं

प्रदेश की न्यायपालिका में भी निजी क्षेत्र दस्तक देने वाला है

By: deepak deewan

Published: 04 Jan 2018, 02:41 PM IST

राहुल मिश्रा @ जबलपुर. प्रदेश की न्यायपालिका में भी निजी क्षेत्र दस्तक देने वाला है। मप्र हाईकोर्ट के अधीन होने वाली सभी ऑनलाइन परीक्षाएं अब निजी कंपनियां कराएंगी। हाईकोर्ट की तरफ से केवल प्रश्नपत्र व मेरिट लिस्ट बनाने के लिए नियम उपलब्ध कराए जाएंगे। आवेदन पत्र जमा करने से लेकर परीक्षा सम्पन्न कराने का पूरा जिम्मा निजी कंपनी के हाथों में होगा। इसके लिए टेंडर हो गए हैं। १९ जनवरी को टेंडर खुलेंगे।


15 शहरों में होंगे सेंटर
हाईकोर्ट की ओर से आमंत्रित टेंडर या रिक्वेस्ट ऑफ प्रपोजल (प्रस्ताव का आग्रह) के तहत ऑनलाइन परीक्षा संचालन में अनुभवी कंपनियों से आरओपी मांगी गई है। शर्तों में स्पष्ट किया गया है कि प्रस्तावकर्ता कंपनी को कम से कम पांच समान स्तर की ऑनलाइन परीक्षाएं संचालन का अनुभव होना चाहिए। हाईकोर्ट की ऑनलाइन परीक्षाएं राज्य के १५ प्रमुख शहरों में प्रतिदिन २५-२५ हजार छात्रों की दो शिफ्ट में होंगी।


10 प्रतिशत बैकअप जरूरी
टेंडर की शर्तों के अनुसार सफल निविदाकर्ता कंपनी क ो प्रदेश के ७-१५ बड़े शहरों में स्थित सभी सेंटर में लोकल एरिया नेटवर्क स्थापित करना होगा। हर सेंटर में उपलब्ध कम्प्यूटर सिस्टम के कम से कम १० प्रतिशत सिस्टम परीक्षार्थियों के लिए बैकअप रखने होंगे। सेंटर में हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर से सम्बंधित सभी कार्य कंपनी को करने होंगे।
हाईकोर्ट ने प्रस्ताव किए आमंत्रित, प्रश्न पत्र व मेरिट लिस्ट बनाने के लिए नियम के अलावा सारी व्यवस्था होगी निजी हाथों में ये व्यवस्थाएं की जाएंगी


ये व्यवस्थाएं की जाएंगी
- परीक्षाएं लोकल एरिया नेटवर्क पर होंगी। रियल टाइम आधारित, रिपोर्ट हाईकोर्ट के सेंट्रल सर्वर को भेजी जाएगी।
- सभी सेंटर में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बाधित करने के लिए जैमर लगेंगे।
- उम्मीदवारों के बायोमेट्रिक सत्यापन के लिए उपकरण लगेंगे।
- महिला व पुरष अभ्यर्थियों के लिए सेंटर में अलग टॉयलेट बनाए जाएंगे।
- परीक्षा संचालन के लिए आवश्यक मैन पावर उपलब्ध कराएगी।
- परीक्षार्थियों को दी जाने वाली आवश्यक जानकारियों का प्रदर्शन करना।
- डाटा संरक्षण व ट्रांसफर के लिए सुरक्षा इतनी तगड़ी होगी कि ये किसी भी तरह से लीक हों।


ये काम करेंगी निजी कंपनियां
- आवेदन पत्र डिजाइनिंग कर तैयार करना
- ऑनलाइन परीक्षा आवेदन पत्र जमा करने आदि के लिए वेबसाइट बनाना, मेंटीनेंस करना
- रिजल्ट तैयार करना
- मेरिट लिस्ट बनाना
- ऑनलाइन फीस जमा करने के लिए गेटवे प्राप्त करना
- प्रवेश पत्र व इसे डाउनलोड करने की सुविधा तैयार करना
- कम्प्यूटर आधारित परीक्षाओं के लिए सेंटर बनाना
- प्रश्न पत्र बनाना
- परीक्षाएं संचालन व सम्पन्न कराना
- उम्मीदवारों के लिए हेल्प डेस्क बनाना

मुख्यत: ये परीक्षाएं होती हैं ऑनलाइन
- एडीजे एंट्री लेवल
- सिविल जज एंट्री लेवल
- असिस्टेंट ग्रेड -३
- लिपिकीय संवर्ग
- चतुर्थ श्रेणी
- कप्म्यूटर ऑपरेटर
- स्टेनोग्राफर
- ट्रांसलेटर

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned