कुख्यात अपराधी के लिए टीआई कर रहा था ये काम, पुलिस जांच में खुला संगीन राज

डबल मर्डर में लंबे समय से फरार गैंगस्टर विजय यादव को सहयोग के आरोपी टीआई केपी यादव सस्पेंड

By: Premshankar Tiwari

Published: 10 Mar 2018, 09:30 AM IST

जबलपुर। डबल मर्डर में फरार जिस आरोपी को पकडऩे के लिए पुलिस लंबे समय से परेशान है उससे मध्यप्रदेश पुलिस का एक अधिकारी ही याराना निभा रहा था। पुलिस जांच में जब ये संगीन राज सामने आया तो शुक्रवार को आनन-फानन में संबंधित अधिकारी को निलंबित करने के निर्देश जारी किए गए। निलंबित किए गए गोहलपुर थाना प्रभारी केपी यादव पर आरोप है कि उन्होंने कांगे्रस नेता राजू मिश्रा और कुक्कू पंजाबी हत्याकांड के मुख्य गवाह नद्दू उर्फ नदीम के भाई कलीम को धमकाते हुए उनके साथ मारपीट की। इस दोहरे हत्याकांड पर न्यायालय में गवाही शुरू हो चुकी है। पुलिस के मुख्य गवाह नद्दू उर्फ नदीम की जल्द गवाही होना है। मामले में गैंगस्टर विजय यादव की ओर से गवाहों को लगातार धमकाने की शिकायतें सामने आ रही है। गोहलपुर पुलिस पर विजय यादव गैंग को संरक्षण देने के भी आरोप लग रहे हैं।

मारपीट, घर में तोडफ़ोड़
सूत्रों के अनुसार टीआई यादव ने शुक्रवार की शाम को गोहलपुर थाने के चार सिपाहियों को नद्दू के घर भेजा। नशे के इंजेक्शन बेचने के आरोप में टीम ने उसके भाई कलीम को पकड़ा। मारपीट करते हुए उसके घर पर तोडफ़ोड की। इसके बाद सिपाही कलीम को थाने लेकर पहुंचे। घटना की जानकारी मिलते ही एएसपी जीपी पाराशर और सीएसपी सीताराम यादव मौके पर पहुंच गए। उन्होंने घायल कलीम को निजी अस्पताल में भर्ती कराया। उसे सिर पर गंभीर चोटें आयी है।

आगाह करने के बाद भी दे रहा था साथ
सूत्रों के अनुसार निलंबित टीआई यादव द्वारा गैंगस्टर विजय यादव और उसके गुर्गों को संरक्षण देने की सूचना पूर्व में भी पुलिस के आलाधिकारियों को मिली थी। इस बात को लेकर टीआई को आगाह भी किया गया था। इसके बावजूद टीआई ने नद्दू के घर पर रेड कराई। पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला द्वारा जारी किए गए निलंबन आदेश में इस बात का हवाला देते ही टीआई यादव को निलंबित करते हुए लाइन अटैच किए जाने की बात कही गई है। मामले की जांच एएसपी को सौंपी गई है।

14 माह बाद भी चार आरोपी फरार
गैंगस्टर विजय यादव और उसके गुर्गों ने पुरानी रंजिश पर 4 जनवरी, 2017 को कांग्रेस नेता राजू मिश्रा और कुक्कू पंजाबी की चेरीताल में खुलेआम सड़क पर गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस सनसनीखेज हत्याकांड को अंजाम देने के मामले में विजय यादव, उसके भाई सहित कई गुर्गें आरोपी है। घटना के करीब 14 माह बीत जाने के बावजूद पुलिस डबल मर्डर के आरोपी गैंगस्टर विजय यादव, समीर खान, आदेश सोनी, बिन्नू विश्वकर्मा को गिरफ्तार नहीं कर पायी है।

राकेश तिवारी को कमान
पुलिस अधीक्षक द्वारा यादव के निलंबन के साथ ही थाना प्रभारी की नियुक्ति के निर्देश भी जारी किए है। केपी यादव के निलंबन के बाद गोहलपुर थाने की कमान राकेश तिवारी को सौंपी गई है। वे फिलहाल खमरिया थाना प्रभारी थे। वहीं, ओमती थाने के एसआई सहदेव राम साहू को खमरिया थाना प्रभारी बनाया गया है।

 

Show More
Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned