मकर संक्रांति से बढ़ेगी ठंड, आज हो सकती है तेज बारिश

सामान्य से 7 डिग्री ज्यादा न्यूनतम पारा, मकर संक्रांति के समय बढ़ेगी सर्दी

द्रोणिका के असर से दिन भर छाए बादल, रात में हल्की बारिश

By: Lalit kostha

Published: 09 Jan 2021, 03:03 PM IST

जबलपुर। आमतौर पर मकर संक्रांति से सर्दी का असर कम होने लगता है। लेकिन, पश्चिमी विक्षोभ और चक्रवाती हवा के असर से इस बार संक्राति के ठीक पहले ठंड बढऩे की सम्भावना है। तापमान में गिरावट से मकर संक्राति के दिन भी सर्द हवा से ठिठुरन होगी। अरब सागर के ऊपर चक्रवात के साथ ही शनिवार को सुबह से ही शहर में बादल छाए हैं। जिससे रात तक बारिश होने की संभावना भी जताई जा रही है। वहीं शुक्रवार रात में कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई। इसके बाद काले बादल छंटते ही पारा गोता लगाएगा। आकाश साफ होते ही कंपकंपी वाली एक ठंड का दौर चलेगा। इससे मकर संक्रांति तक मौसम सर्द बना रहेगा।

तापमान में चार डिग्री की गिरावट
अधारताल स्थित मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार गुरुवार को अधिकतम तापमान 28.8 और न्यूनतम तापमान 17.8 डिग्री सेल्सियस था। शुक्रवार को अधिकतम तापमान में गिरावट आई। यह चार डिग्री लुढकऱ 24.8 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड हुआ। यह सामान्य से एक डिग्री ज्यादा बना रहा। न्यूनतम तापमान 17.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। यह सामान्य से 7 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहा। आद्र्रता सुबह के समय 82 और शाम को 66 प्रतिशत थी।

शाम को हवा में घुली सर्दी
शहर में शुक्रवार को सुबह से आसमान को काले बादल घेरने लगे। इसके कारण सुबह के समय सर्दी कम रही। दोपहर तक आसमान में काले घने बादल छा गए। हवा की दिशा बदलकर उत्तर-पूर्वी हो गई। करीब दो किमी प्रतिघंटा की गति से आई सर्द हवा मौसम में धीरे-धीरे ठंडक घोलने लगी। इससे कुछ दिन से लगभग गायब सी लग रही ठंड शाम से महसूस होने लगी। रात होते तक ठंड का असर और बढ़ गया।

कल से बदलेगा मौसम
मौसम विज्ञान केंद्र में वैज्ञानिक सहायक देवेंद्र कुमार तिवारी के अनुसार शुक्रवार को अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। दक्षिण-पूर्वी अरब सागर के ऊपर चक्रवात है। अरब सागर से गुजरात तक एक द्रोणिका बनी हुई है। श्रीलंका के आसपास भी एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है।

rain alert
Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned