इस सड़क पर अपने आप गिरने लगते हैं पत्थर, आप भी जानिए ये राज

नागाघाटी में एनएच-१२ हाईवे खुला तो दूसरी जगह से गिरने लगे पहाड़ के पत्थर

By: deepak deewan

Published: 10 Nov 2017, 12:10 PM IST

जबलपुर. नागाघाटी इंजीनियरों के लिए अजूबा बन रही है। यहांं करीब ६० फीट ऊंची पहाड़ी को काटकर बनाई गए एनएच-१२ ए पर वाहनों का आवागमन अभी भी खतरनाक बना हुआ है। पहाड़ी के पत्थर सड़क पर गिरना जारी है। एक जगह से यह समस्या खत्म की जाती है तो दूसरी जगह पर पत्थर गिरने का सिलसिला शुरु हो जाता है।


दुर्घटना की आशंका
एनएच-१२ ए पर वाहनों के लिए हाल ही में रास्ता खोला गया है। करीब पांच माह में एक जगह पहाड़ी को लोहे की जाली से बांधा गया तो दूसरी जगह सड़क पर टूटकर गिरी पहाड़ी का मलबा हटाया गया। अभी ऊंची पहाड़ी से लुढ़ककर पत्थर सड़क पर आ रहे हैं। तेज रफ्तार से आने वाले वाहनों के दुर्घटना की चपेट में आने की आशंका है। जबलपुर से रायपुर को जोडऩे वाले हाईवे को बनाने से पहले कार्यदायी संस्था एमपीआरडीसी ने पहाड़ी क्षेत्र में वन विभाग से अतिरिक्त भूमि नहीं ली। पत्रिका ने एक जून को 'पहाड़ी काटकर बना दी सड़क, बज रही खतरे की घंटीÓ खबर प्रकाशित की तो पहाड़ी को लोहे की जाली से बांध दिया। जबकि, एक्सपर्ट का कहना है कि हार्ड पहाड़ी पर ही लोहे की जाली लगाई जाती है। भूमि के पेंच के कारण सड़क से लगी पहाड़ी को ढाल नुमा काटने में मुश्किलें आ रही हैं।


वन विभाग ने भूमि देने से इनकार किया
वन विभाग ने एक बार फिर भूमि देने से इनकार कर दिया है। अब एमपीआरडीसी ने इस पहाड़ी में मिट्टी और पत्थरों को बांधने के लिए फिर से टेक्निकल रिपोर्ट मांगी है। जानकारों के अनुसार शीत और धूप के कारण पहाड़ी भसकने की आशंका ज्यादा है। बारिश हुई तो खतरा और बढ़ जाएगा। ज्यादातर लोग परिवर्तित मार्ग से ही जा रहे हैं। एमपीआरडीसी के डिवीजनल मैनेजर पीके जोशी बताते हैं कि वन विभाग ने भूमि नहीं दी। इस कारण पहाड़ी को ढाल नुमा नहीं काट सकते हैं। दूसरी पहाड़ी की कटान रोकने के लिए टेक्निकल रिपोर्ट मांगी गई है। ठोस उपाय किए जाएंगे। इधर कलेक्टर महेशचंद्र चौधरी का कहना है कि एमपीआरडीसी और वन विभाग के अधिकारियों से बात करके नागाघाटी में खतरा टाला जाएगा। जरूरत पड़ी तो कुछ समय के लिए सड़क पर वाहनों का आवागमन रोककर कार्य किया जाएगा।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned