त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवि नर्मदे... निर्मल बहे नर्मदा नीर। संस्कारधानी में शनिवार को नर्मदा प्राकट्योत्सव (जयंती) पर नर्मदा घाटों सहित शहर के चौक-चौराहों पर ये धुन गंूजती रही। नर्मदा मैया के जन्म पर बधाव बजाए जा रहे थे। घाटों पर आस्था की डुबकी लगी। तो शहर में भंडारे के आयोजन में श्रद्धा का सैलाब नजर आया। श्रद्धालुओं ने वाद्य यंत्रों की मधुर धुनों के बीच जीवन दायिनी पुण्य सलिला की महाआरती कर स्तुति-आराधना की। फूलों से सुसज्जित मां रेवा की प्रतिमा के साथ पालकी यात्रा और बैंड दलों की धुन पर नृत्य करते हुए चुनरी यात्रा निकाली गई।

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned