scriptnarmada river, organic farming, chemical free farming in river | अच्छी पहल: नर्मदा के किनारों पर अब नहीं होगी रसायनों वाली खेती, जानें पूरा मामला | Patrika News

अच्छी पहल: नर्मदा के किनारों पर अब नहीं होगी रसायनों वाली खेती, जानें पूरा मामला

अच्छी पहल: नर्मदा के किनारों पर अब नहीं होगी रसायनों वाली खेती, जानें पूरा मामला

 

जबलपुर

Updated: February 17, 2022 12:12:10 pm

जबलपुर। गंगा नदी की तर्ज पर नर्मदा नदी के दोनों तटों से लगे गांवों मेें प्राकृतिक (जैविक) खेती की योजना पर जबलपुर में काम प्रारम्भ हो रहा है। जिले में 60 किमी से ज्यादा लम्बाई में नर्मदा नदी बहती है। ऐसे में बड़ा रकबा जैविक खेती के लिए जिले को प्राप्त हो सकता है। कृषि विभाग रकबे का प्रारंभिक आकलन कर रहा है। अभी नर्मदा नदी के किनारे गेहूं, चना, मूंग, उड़द, सरसों, मटर सहित सब्जियों की खेती होती है।

narmada river
narmada river

60 किमी के करीब है जिले में नर्मदा नदी की लम्बाई
04 तहसील क्षेत्रों से होकर गुजरती है नदी
110 से ज्यादा आसपास के गांवों की संख्या

केंद्र सरकार ने आम बजट में गंगा नदी के दोनों किनारों से करीब पांच किलोमीटर दूर तक जैविक खेती की योजना की घोषणा की है। उसी तर्ज पर प्रदेश शासन भी नर्मदा नदी के किनारों पर ऐसी ही खेती की योजना बना रहा है। माना जा रहा है कि आगामी बजट में इसका प्रावधान किया जा सकता है। नर्मदा नदी के किनारे के जिलों से प्रस्तावित रकबे की जानकारी का संकलन किया जा रहा है। जबलपुर में भी इसकी शुरुआत हो गई है। जल्द ही बैठक भी होगी। इस साल भी कृषि विभाग ने जैविक खेती के लिए तहसीलवार योजना बनाई है। इसमें करीब 257 गांवों के 1400 से ज्यादा किसानों को शामिल किया जाएगा। इसका प्रस्तावित रकबा करीब 560 हेक्टेयर है।

organic farming

कृषि के लिए उपजाऊ इलाका- वर्तमान में भी नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर अनाज, फल और सब्जियों की भरपूर पैदावार होती है। किसानों के लिए नर्मदा किसी वरदान से कम नहीं है। अभी जो खेती हो रही है, उसमें 90 प्रतिशत किसान रसायनों का इस्तेमाल करते हैं। अब शासन की योजना है कि अधिकतर किसान जैविक खेती करें।

गोबर की खाद का होगा इस्तेमाल
प्राकृतिक खेती में प्रकृति में मौजूद तत्वों का ही कीटनाशक के रूप में उपयोग किया जाता है। कीटनाशकों के रूप में गोबर की खाद, कम्पोस्ट, जीवाणु खाद, फसलों के अवशेष और प्रकृति में उपलब्ध खनिजों का उपयोग किया जाता है। लेकिन, उत्पादन बढ़ाने के लिए किसान रसायनों का व्यापक इस्तेमाल करते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार ज्यादा रसायन के इस्तेमाल से कैंसर जैसी घातक बीमारियां बढ़ रही हैं।

पहले भी प्रयास, लेकिन फलीभूत नहीं
जिले में पहले भी परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत वर्ष 2016-17 में 250 किसानों के पांच क्लस्टर बनाए गए थे। इन किसानों ने 100 हेक्टेयर में जैविक खेती की। वर्ष 2017-18 में 650 किसानों के 13 क्लस्टर बनाए गए थे। इसमें 260 हेक्टेयर में जैविक खेती हुई। इसी तरह वर्ष 2019-20 में एक हजार किसानों के 50 क्लस्टर बनाकर 600 हेक्टेयर में जैविक जैविक खेती की गई। लेकिन, बजट के अभाव में यह आगे नहीं बढ़ सकी।


नर्मदा नदी के किनारे जैविक खेती को करने के लिए विभागीय तैयारियां की जा रही हैं। शासन से जो भी दिशा निर्देश मिलेंगे, उसके अनुसार आगे की कार्यवाही करेंगे।
- डॉ. एसके निगम, उप संचालक, कृषि विभाग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

पेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलानArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसThailand Open 2022: सेमीफाइनल मुक़ाबले में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट से हारीं सिंधु, टूर्नामेंट से हुई बाहरपैंगोंग झील पर जारी गतिरोध के बीच रेलवे ने सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए चीनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया?Rajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.