तटों पर होते हैं गुप्त तप, वैज्ञानिक भी नही सुलझा पाए इस प्राचीन नदी के रहस्य

 तटों पर होते हैं गुप्त तप, वैज्ञानिक भी नही सुलझा पाए इस प्राचीन नदी के रहस्य
narmada mahotsav

Abha Sen | Publish: Nov, 05 2016 01:20:00 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

नर्मदा मध्य भारत के मध्य प्रदेश और गुजरात राज्य में बहने वाली एक प्रमुख नदी है। अमरकण्टक शिखर से नर्मदा नदी की उत्पत्ति हुई है।

जबलपुर। नर्मदा मध्य भारत के मध्य प्रदेश और गुजरात राज्य में बहने वाली एक प्रमुख नदी है। अमरकण्टक शिखर से नर्मदा नदी की उत्पत्ति हुई है। इसकी लम्बाई 1310 किलोमीटर है। यह नदी पश्चिम की तरफ  जाकर खम्बात की खाड़ी में गिरती है। जबलपुर शहर इसी नदी के किनारे बसा है। नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा 14 नवम्बर के मद्देनजर होमगार्ड व नगर परिषद भेड़ाघाट के अधिकारियों ने परिक्रमा मार्ग का निरीक्षण किया। इसके लिए तैयारियां जोर-शोर से जारी हैं। हम आपको यहां चिरकुंवारी नर्मदा नदी से जुड़ी 10 रोचक बातें बताने जा रहे हैं...


-नर्मदा ने उत्तर वाहिनी गंगा के तट पर काशी के पंचकोशी क्षेत्र में 10,000 दिव्य वर्षों तक तपस्या करके प्रभु शिव को प्रसन्न कर दिव्य वरदान प्राप्त किए थे।

-कठिन तपस्या के बाद मां नर्मदा ने भगवान शिव से प्रलय में भी नाश ना होने का वरदान मांगा था। 

-नर्मदा नदी से निकलने वाले हर कंकर को भगवान शंकर का रूप माना जाता है। इससे निकलने वाले नर्मदेश्वर शिवलिंग बगैर प्राण प्रतिष्ठा के भी पूजित होते हैं। 

-गंगा में स्नान का पुण्य है जबकि नर्मदा के दर्शन मात्र से पापों का नाश होता है। 

-ऐसी मान्यता है कि हर साल गंगा, नर्मदा नदी से मिलने आती हैं। 

narmada

-नर्मदा अति प्राचीन और रहस्यमयी नदी मानी जाती है। इसके रहस्यों को वैज्ञानिक भी नही सुलझा पाए। नर्मदा पुराण में मां नर्मदा की महिमा का विस्तार से वर्णनन मिलता है। 


-नर्मदा का विवाह सोनभद्र नामक नद से होना तय था लेकिन उनकी सखी जोहिला की वजह से उनका विवाह नही हो सका। नर्मदा का विवाह मंडप अब भी अमरकंटक में देखने मिलता है। 

-पुराणों के अनुसार नर्मदा क्रोध में आकर उल्टी बहने लगीं और जीवन पर्यंत अकेले ही बहने का निर्णय लिया। यही वजह है कि नर्मदा नदी से दूसरी नदी नही टकराती। 

-नर्मदा एकमात्र नदी है जिसकी परिक्रमा की जाती है। इसकी तुलना तीर्थयात्रा के समान ही होती है। 

-नर्मदा को उसके तट पर सभी देवों के वास का वरदान है। जिसकी वजह से नर्मदा तटों पर ऋषि-मुनि गुप्त रूप से तपस्याएं भी करते हैं। 

narmada

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned