scriptNation is built by dreams of youth: Satyarthi | राष्ट्र का निर्माण ईंट, पत्थर, गारे से नहीं बल्कि युवाओं के सपनो से होता: सत्यार्थी | Patrika News

राष्ट्र का निर्माण ईंट, पत्थर, गारे से नहीं बल्कि युवाओं के सपनो से होता: सत्यार्थी

अभाविप के राष्ट्रीय अधिवेशन, नोबल पुरस्कार से सम्मानित सत्यार्थी ने युवाओं को दी सलाह

 

जबलपुर

Published: December 24, 2021 11:41:28 pm

जबलपुर।
राष्ट्र का निर्माण ईंट पत्थर गारे, इच्छाओं से नहीं बल्कि युवाओं के सपनों और संकल्पो से होता है। यदि यह ठान ले तो सपनों का पूरा होने से कोई रोक नहीं सकता। जब एक साथ सब लोग एक उद्देश्य से इक_े होते हैं तो राष्ट्र का निर्माण होता है। भारत कभी बूढ़ा नहीं होता यह सास्वत है इसे आगे बढ़ाने का काम युवाओं के कंधो पर है। यह बात नोबल पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में मुख्य अतिथि के रूप में कहे। सत्यार्थी ने कहा कि हम सैकड़ों समस्याओं की धरती हो सकते हैं लेकिन करोड़ों समस्याओं के समाधान भी हम हैं। युवा ही देश और दुनिया के समाधान हैं इसे हम सबको समझना होगा। राष्ट्रीय महामंत्री त्रिपाठी ने कहा विद्यार्थी परिषद केवल छात्र आंदोलन नहीं बल्कि वैचारिक आंदोलन भी है। मिशन साहसी अभियान के तहत हमने छात्राओ की रक्षा के लिए अभियान चलाकर 12 लाख से अधिक छात्राओं को सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग दी। कोरोना काल में हमारे कार्यकर्ताओं गांव-गांव घर-घर जाकर दवाईयों, आक्सीजन सिलेंडर, प्लाज्मा नि:शुल्क दिया। राष्ट्रीय अध्यक्ष छगन भाई पटेल ने परिषद के कार्यों पर प्रकाश डाला। इस दौरान क्षेत्रीय संगठन मंत्री नीरव गिलानी, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी सिद्धार्थ यादव, प्रांत अध्यक्ष संदीप खरे, महानगर मंत्री माखन शर्मा, प्रदेश मंत्री सुमन यादव, सर्वम सिंह राठौड़, स्वागत समिति अध्यक्ष जितेंद्र जामदार, संदीप जैन के अलावा कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा, सांसद राकेश सिंह, स्वामी अखिलेश्वरानंद, स्वामी राघवादेवाचार्य आदि उपस्थित थे।

Nation is built by dreams of youth: Satyarthi
Nation is built by dreams of youth: Satyarthi

पंडाल के अंदर खुशबू को कैद नहीं कर सकते
विभिन्न प्रांतों से आए पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं को देखते हुए सत्यार्थी ने कहा कि यह नजारा गुलशन की तरह है। जिसमें विभिन्न खुशबुओं वाले फूल हैं। इन सुगंधों को पंडाल के अंदर कैद नहीं किया जा सकता बल्कि जितनी हवा चलेगीा उतना महकेंगे। यह भी एक संयोग है कि परिषद का 67वां राष्ट्रीय अधिवेशन है तो वहीं मैं भी 67वां शीतकाल मना रहा हूं। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपना नोबल पुरस्कार जब मिला तो उन्होंने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मुलाकात कर इस पुरस्कार को भारत माता और हर नागरिक के लिए समर्पित कर दिया। यह उनके लिए भावुक क्षण था।

कार्तिक को एक लाख के पुरुस्कार से सम्मानित
अधिवेशन के दौरान प्रो.यशवंत राव केलकर पुरस्कार से विल्लुपुरम तामिलनाडू निवासी कार्तिकेयन गणेशन को दिव्यांगों, गरीबों, लोगों को जीना सिखाने, काम करने और आय पैदा करने में सहयोग के लिए 1 लाख रुपए और स्मृति चिन्ह भेंटकर मुख्य अतिथि सत्यार्थी, राष्ट्रीय अध्यक्ष छग्गन भाई पटेल, राष्ट्रीय महामंत्री निधि त्रिपाठी द्वारा देकर सम्मानित किया गया। कार्तिकेयन ने कहा कि मेरे पास इसके लिए शब्द नहीं है। में 15 वर्षों तक अनाथालय में रहा और अब उसी अनाथालय का निदेशक हूं। मेरे जीवन का उद्देश्य दिव्यांगजनों के लिए काम करने का है और यह मुझे अपने कार्य को बेहतर करने प्रेरित करेगा।

हर दो घंटे में चार बलात्कार
कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि दो घंटे कार्यक्रम में गुजर गए है इस 2 घंटे में देश में 4 नन्हीं बच्चियों साथ बलात्कार हो गया होगा। इस बीच हमारी 8 बेटियों को चुराकर जानवरों की तरह बेचा जा चुका होगा। उन्होंने कहा कि सरकार के आंकड़ों में 10 लाख बेटियां वेश्यावृत्ति का शिकार है। कई के साथ एक-एक दिन में पांच-पांच बार बलात्कार हो रहा है। उन्होंने परिषद को बेटियों का सुरक्षा चक्र बनने का आव्हान किया।

खरीद फरोख्त का कानून नहीं:सत्यार्थी
देश में सभी तरह के कानून हैं लेकिन देश में अभी तक बच्चों,युवतियों की खरीद फरोख्त के लिए कोई कानून नहीं है। मौजूदा सरकार के पिछले कार्यकाल में इस संबंध में कानून बना लेकिन राज्यसभा में पारित नहीं हो पाया। कुछ प्रगतिशील सांसदों नेे सेक्स वर्कर का रोजगार खत्म होने का हवाला देकर इसे पारित नहीं होने दिया। उन्होंने सरकार और विद्यार्थी परिषद से इस संबंध में कानून बनवाने के लिए प्रयास करने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि मै राजनीतिक नहीं हूं। मेरी राजनीति अगली पीढ़ी के लिए है। मैं अगली पीढ़ी को शिक्षित और मानवतावादी देखना चाहता हूं। उन्होंने बलात्कार पीडि़ता के साथ समाज में हो रहे दुर्रव्यवहार पर हैरानी जताई । बताया कि कई बलात्कार पीडि़ता आस पड़ोस के तानों से तंग आकर घर छोडकऱ चली जाती है।

Nation is built by dreams of youth: Satyarthi
mayank sahu IMAGE CREDIT: mayank sahu

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.