scriptNatural Air Conditioner in madhya pradesh, read must | मप्र की ‘प्राकृतिक एयर कंडीशनर’ जहां तपती गर्मी में मिलती है राहत की हवा | Patrika News

मप्र की ‘प्राकृतिक एयर कंडीशनर’ जहां तपती गर्मी में मिलती है राहत की हवा

मदनमहल की पहाड़ी है शहर का ऑक्सीजन टैंक
खुशनुमा आबोहवा के मॉडल हैं हमारी धरोहर

जबलपुर

Updated: April 18, 2022 12:56:21 pm

जबलपुर। विश्व प्रसिद्ध धुआंधार की उड़ती धवल फुहारें और बंदरकूदनी की शीतलता दुनियाभर के पर्यटकों को भीषण गर्मी में भी प्राकृतिक एयरकंडीशनर का अहसास करा रही हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार जिस फार्मूले पर एसी-कूलर बनाए गए हैं, प्रकृति ने जबलपुर को प्राकृतिक रूप से उसी तरकीब से तराशा है। शहर के चहुंओर फैली हरियाली, मदन महल से लेकर बरगी हिल्स की पहाड़ी ऑक्सीजन टैंक का काम करती है। नर्मदा नदी की जल तरंगें और तालाबों की मौजूदगी से खुशनुमा आबोहवा को लेकर नगर की अलग पहचान है। तापमान बढऩे पर यहां स्थानीय बादल सक्रिय हो जाते हैं। हल्की बारिश होने से शहरवासियों को गर्मी से राहत मिल जाती है। पर्यावरणविदों के अनुसार हमारी धरोहर खुशनुमा आबोहवा के मॉडल हैं।

Bhedaghat
Bhedaghat

भीषण गर्मी में भी शीतलता का अहसास
नर्मदा के सबसे विहंगम तट धुआंधार, पंचवटी से स्वर्गद्वारी और बंदरकूदनी के बीच भीषण गर्मी में सुकूनदायक ठंडक का अहसास होता है। प्राकृतिक धरोहर होने के कारण अब तक इन स्थलों के आसपास की हरियाली काफी हद तक सुरक्षित है।

हरियाली से घिरी मदनमहल पहाड़ी
तापमान बढऩे पर वाष्पीकरण होता है। कम दबाव का क्षेत्र बनने से आसपास के बादल भी आ जाते हैं। इससे बारिश होती है। यह स्थिति यहां बड़ा हरित क्षेत्र होने और जल राशि की उपलब्धता के कारण बनती है। मदनमहल की पहाड़ी को शहर का ऑक्सीजन टैंक कहा जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार भूगर्भ ग्रेनाइट की चट्टानें गर्मी के दिनों में बहुत गर्म हो जाती हैं। इन्हें ठंडा होने में अधिक समय लगता है। ऐसे में शहर के बीचोंबीच स्थित हरित क्षेत्र और बड़ी संख्या में तालाबों में उपलब्ध जल ग्रेनाइट की चट्टानों को ठंडा होने के लिए अनुकूल वातावरण बनाता है।

विशेषज्ञ बोले
तापमान बढऩे पर वृहद स्तर पर जलराशि की उपलब्धता के कारण तेजी से वाष्पीकरण होता है। बड़े हरित क्षेत्र के कारण कम दबाव का क्षेत्र बनने पर आसपास के बादल भी एकत्र हो जाते हैं। इससे हल्की बारिश होती है। जबलपुर की आबोहवा प्राकृतिक रूप से बहुत संतुलित है।
- एसके खरे, वैज्ञानिक

जबलपुर में नर्मदा व सहायक नदियों परियट और गौर का लम्बा तटवर्ती क्षेत्र, मदन महल की पहाड़ी, बरगी हिल्स व चारों ओर पहाड़ी और तालाबों की मौजूदगी के कारण आबोहवा बहुत ही अनुकूल है। ऐतिहासिक मदन महल किले की मौजूदगी के कारण पहाड़ी को संरक्षित किया जा रहा है। भेड़ाघाट में धुआंधार की मौजूदगी के कारण बड़ा हरित क्षेत्र सुरक्षित बचा हुआ है।
- एबी मिश्रा, पर्यावरणविद्

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

अफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशानाPunjab Borewell Accident: बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, अस्पताल में हुई मौतBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमIPL 2022, SRH vs PBKS Live Updates: 15 ओवर के बाद हैदराबाद 5 विकेट के नुकसान पर 96 रनों परआम आदमी पार्टी में शामिल होंगे कपिल देव! हरियाणा चुनाव से पहले AAP का बड़ा दांव, केजरीवाल संग फोटो वायरलआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट का रो रहे हैं रोना, यहां जानेंपुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.