attempt to rape : 9 साल की मासूम बच्ची को पड़ोसी घर की छत पर ले गया और की ये हरकत

माता-पिता की चुप्पी के चलते एक साल से 40 वर्षीय पुरुष की मनमानी का शिकार बन रही थी बच्ची

By: deepankar roy

Published: 14 Nov 2017, 01:40 PM IST

जबलपुर/कटनी। शहर की एक कॉलोनी में रहने वाली एक 9 साल की मासूम बच्ची को एक दिन उसका पड़ोसी बहला-फुसलाकर अपने घर की छत पर ले गया। इस 40 वर्षीय पड़ोसी ने अकेले में बच्ची के साथ छत पर अश£ील हरकतें की। बच्ची को जब दर्द महसूस हुआ तो उसने अपनी मां को पड़ोसी अंकल की हरकतों के बारे में बताया। लेकिन लोकलाज के डर से मासूम बच्ची के साथ हुई हरकत की बात को मां-पिता ने दबा दिया। लेकिन माता-पिता की यह चुप्पी मासूम बच्ची के लिए मुसीबत बन गई। आरोपी उसे डराता-धमकाता रहा। करीब एक साल तक उसके साथ अश£ील हरकतें रहा। आखिरकार पड़ोसी की हरकत से तंग आकर बच्ची की मां सोमवार को माधवनगर थाना पहुंची और आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई।
मां ने दर्ज कराई रिपोर्ट
माधव नगर पुलिस के अनुसार9 वर्षीय बच्ची की मां ने आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। आरोपी ने बच्ची के साथ एक वर्ष पूर्व अश्लील हरकत की थी। इसके बाद वह पिछले एक वर्ष से उसे डराता रहा, ताकि वह इस बारे में अपने परिजनों को जानकारी न दे सके। बच्ची के परिजनों द्वारा शिकायत न किए जाने से आरोपी के हौसले बढ़ गए थे। आरोपी पहले जहां उसे घूरकर डराता था, वहीं उसने उसका पीछा करना भी शुरू कर दिया था। इस मामले में आरोपी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
कोई नहीं मदद के लिए आगे
पुलिस के अनुसार पहले-पहल तो मां-पिता ने पड़ोसी द्वारा की गई हरकत को मासूम बच्ची के भविष्य की चिंता करते हुए सभी से छिपा लिया। घटना के बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। उसके बाद माता-पिता ने पड़ोसी से मिलकर उसे दोबारा ऐसी हरकत न करने की नसीहत दी। इसके बाद भी पड़ोसी अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। इस पर मासूम के साथ पड़ोसी द्वारा की गई हरकत की जानकारी उसकी मां ने अपने मकान मालिक और मोहल्लो के कुछ वरिष्ठों से की। लेकिन कोई भी उसकी मदद करने के लिए आगे नहीं आया।
बच्चों से बात करें अभिभावक
एसपी अतुल सिंह का कहना है कि अधिकांश ऐसे मामले में पालकों और बच्चों के बीच संवाद न होने के कारण ऐसी स्थिति बनती है। बच्चों से लगातार अभिभावकों को बात करना चाहिए। उनके दोस्त, स्कूल की गतिविधियों सहित अन्य विषयों पर चर्चा करनी चाहिए, जिससे वे अपनी समस्या अभिभावकों से साझा कर सकें। अभिभावकों के सामने छेड़छाड़, अश्लील हरकतें, बच्चों को घूरना, डराना सहित अन्य मामला सामने आता है तो सीधे पुलिस की मदद लेनी चाहिए। वे महिला हेल्पलाइन, चाइल्ड लाइन, निर्भया टीम और डायल-1०० में तत्काल शिकायत कर सकते है।

Show More
deepankar roy Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned