कोरोना काल में अगर करना है रेल सफर तो आप के लिए है ये महत्वपूर्ण जानकारी...

-बढते कोरोना संक्रमण के चलते बदली है रणनीति

By: Ajay Chaturvedi

Published: 15 Sep 2020, 10:16 PM IST

जबलपुर. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते रेलवे ने अपनी रणनीति में परिवर्तन किया है। इससे यात्रियों को कुछ असुविधा हो सकती है लेकिन वो वैश्विक महामारी से बच सकते हैं। लेकिन इसके लिए यात्री को अपनी हर जानकारी शेयर करनी होगी। यह परिवर्तन टिकट को लेकर है।

रेलवे की इस नई रणनीति के तहत अब ट्रेन की किसी बोगी में कोई भी आसानी सफर नहीं कर सकेगा। बोगी में उतने ही लोग सफर कर पाएंगे जितनी सीट है। सीट से एक भी ज्यादा यात्री नहीं होगा। उसे टिकट ही नहीं मिल पाएगा। रेलवे ने यह रणनीति भले ही कोरोना संक्रमण से यात्रियों को महफूज रखने के लिए किया है लेकिन इससे रेलवे बिना टिकट सफर करने वालों पर भी नजर रख सकेगा। साथ ही बोगी में अनावश्यक भीड़ भी नहीं होगी।

नई व्यवस्था के तहत ट्रेनों की सामान्य बोगी में सफर करने के लिए भी रिजर्वेशन कराना होगा। रिजर्वेशन आईआरसीटीसी के वेबसाइट से भी होगा साथ ही प्लेटफार्म से भी। लेकिन सामान्य टिकट विंडो से नहीं बल्कि रिजर्वेशन काउंटर से टिकट लेना होगा।

हां! अपनी सीट रिजर्व कराने के लिए यात्री को आधार कार्ड के साथ ही घर का पूरा पता दर्ज करना होगा जैसे पहले पोस्टकार्ड या अंतरदेशी पत्र पर दर्ज करना होता था। मसलन शहर, मोहल्ला, पिनकोड आदि की पूरी जानकारी देनी होगी। इसके बाद ही सीट नंबर उपलब्ध कराया जाएगा। रेलवे ने यह सिस्टम 5 सितंबर से लागू किया है। इसके तहत कई ट्रेनों का संचालन शुरू भी हो गया है। यह अलग है कि रेलवे ने यह व्यवस्था गुपचुप तरीके से लागू कर दी ऐसे में यात्रियों की इसकी जानकारी तब हुई जब वो जनरल टिकट लेने के लिए स्टेशन पहुंचे।

"कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर वर्तमान में जो भी ट्रेनें चल रही हैं उनके जनरल कोच में बैठने वाले यात्री को भी रिजर्वेशन के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। रिजर्वेशन के दौरान हर यात्री से पिनकोड सहित आवश्यक जानकारी ली जा रही है।" -विश्वरंजन, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned