निजी अस्पतालों की लूट का पर्दाफाश करने को NSUI वर्कर्स ने किया ये बेजोड़ काम

-आरोप, निजी अस्पताल इलाज के नाम पर घटिया उपकरण इस्तेमाल किया जा रहा
-मालवीय चौक पर दिया धरना, कलेक्टर को संबोधित ज्ञापन सौं पर अस्पताल के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की

By: Ajay Chaturvedi

Published: 20 May 2021, 03:02 PM IST

जबलपुर. हाईकोर्ट की नाराजगी और मुख्य न्यायाधीश की तल्ख टिप्पणी के बाद राष्ट्रीय छात्र संगठन (NSUI) ने निजी अस्पतालों में मची लूट का कच्चा-छिट्ठा खोलने के लिए योजनाबद्ध तरीके से बड़ा काम किया है। एनएसयूआई नेता विजय रजक ने इसका खुलासा मीडिया से मुखातिब होते हुए किया है।

एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष रजक का आरोप है कि निजी अस्पतालों में भर्ती आयुष्मान योजना के लाभार्थियों को भी नहीं बख्शा जा रहा। उन्होंने एक निजी अस्पताल का उल्लेख करते हुए कहा कि वहां की लूट का खुलासा करने के लिए स्टिंग ऑपरेशन किया गया। रजक का कहना है कि उस स्टिंग ऑपरेशन में अस्पताल प्रशासन द्वारा इलाज के लिए आयुष्मान कार्ड धारक मरीज और तीमारदारों से पैसा मांगने से लेकर निम्न स्तरीय गुणवत्ता वाले उपकरणों का इस्तेमाल करने तक का खुलासा हुआ है।

एनएसयूआई नेता का आरोप है कि जामदार अस्पताल ने आयुष्मान योजना कार्ड धारक से अलग से 40 हजार रुपये की मांग की। इस संबंध में जब अस्पताल के डॉ. संजय से शिकायत की गई और पूछा गया कि आयुष्मान योजना में पैसा सरकार देती है? इस पर बतौर रजक, चिकित्सक जो गुप्त कैमरे के सामने कहा कि योजना में मिलने वाला सामान मरीज को लगाया नहीं जा सकता है। उसकी गुणवत्ता बेहद खराब होती है। इसलिए अच्छी गुणवत्ता का सामान लगाने के लिए पैसा लिया गया है।

निजी अस्पतालों में लूट के खिलाफ एनएसयूआई वर्कर्स ने सौंपा ज्ञापन

इसके बाद जिलाध्यक्ष रजक के नेतृत्व में संगठन के पदाधिकारियों ने मालवीय चौक पर धरना दिया और कलेक्टर को संबोधितज्ञापन सौंपा। कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन के माध्यम से अस्पताल के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की मांग की है। संगठन का आरोप है कि सरकार के स्तर से गरीबों के इलाज के लिए लागू आयुष्मान निशुल्क स्वास्थ्य योजना का आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी मरीजों से प्राइवेट अस्पतालों में बिना बिल के लगातार अनाप-शनाप पैसे लिया जा रहा है। बताया कि जामदार अस्पताल के डॉ.जितेंद्र जामदार राज्य स्तरीय कोरोना सलाहकार समिति के सदस्य भी है।

संगठन के जिलाध्यक्ष विजय रजक ने एक वीडियो भी जारी किया है। इस वीडियो में दिखाया गया है कि जामदार अस्पताल के डॉ. संजय से अतिरिक्त पैसा लेने की वजह पूछने पर उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना के अंतर्गत सरकार से भेजी जाने वाली सामग्रियां रद्दी होती है। सरकारी सामग्री को लगाकर अपने अस्पताल की छवि खराब नहीं करना चाहते। डाक्टर अपने अस्पताल में इलाज को उपयुक्त होने वाले उपकरणों की समदड़िया मॉल से तुलना करते हुए कह रहे हैं कि माल से सामान ले और दाम फुटपाथ की दुकान के लें ये कैसे हो सकता है।

धरने देने वालों में जिलाध्यक्ष विजय रजक, कौशल यादव, सौरभ गौतम, शुभांशु कनोजिया, शुभम रजक, सचिन रजक, अमित मिश्रा, करन तामसेतवार, काली , कार्तिक कनोजिया, यशु नीखरा, सेमुअल आदि प्रमुख थे।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned