Ordnance factory: महाप्रबंधक ने कर्मचारियों से कही बड़ी बात, जाने क्या है मामला

जेसीएम-चतुर्थ की बैठक में बोल रहे थे ओएफके महाप्रबंधक

By: reetesh pyasi

Published: 27 Nov 2019, 06:57 PM IST

जबलपुर। ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) में बने उत्पादों पर कर्मचारियों को इतना भरोसा होना चाहिए कि उनका किसी भी स्तर पर परीक्षण किया जाए वह फेल नहीं हो सकें। सेना के जवान इन उत्पादों का पूरे विश्वास के साथ उपयोग कर सकें। यह बात जेसीएम-चतुर्थ की बैठक में फैक्ट्री के महाप्रबंधक रविकांत ने सदस्यों से कही। उनका कहना था कि हमें उत्पादन को समय पर पूरा करने के लिए संकल्प के साथ काम करना होगा। इसमें गुणवत्ता का ध्यान रखा जाए।

इन मुद्दों पर भी हुई चर्चा
इससे पहले लीडर स्टाफ साइड एवं जेसीएम-2 सदस्य अरुण दुबे और अखिलेश पटेल ने कहा कि टे्रड की मर्ज का मुद्दा उठाया। उनका कहना था कि जिन कर्मचारियों के लिए यह पॉलिसी बनाई जा रही है यदि उनमें असंतोष है तो इसे यही समाप्त किया जाना चाहिए। बैठक में कर्मचारियों को माइनर पेनल्टी समाप्त होने के बाद भी पदोन्नति नहीं प्रदान करने का मुद्दा उठाया गया। इसी तरह प्रबंधन की तरफ से तय किया गया कि अलग-अलग अनुभागों में होने वाले कार्यों का महत्व बताने के लिए अब नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया जाएगा। सुरक्षा कर्मचारी यूनियन के केबीएस चौहान उपस्थित थे।

ट्रेड मर्जर का मामला वापस लिया
कामगार यूनियन की ओर से जिन ट्रेडों में पदोन्नति के अवसर कम है उन ट्रेडों को आपस मे क्लब करने की मांग खमरिया प्रबंधन से की थी। जेसीएम सदस्य अरुण दुबे एवं प्रेम लाल सेन ने यह प्रस्ताव वापस ले लिया। इसके साथ ही यूनियन ने ट्रेड क्लब का मामला वापस लेने पत्र देकर वापस ले लिया है । यूनियन के राकेश शर्मा , राजेन्द्र चराडिय़ा, रूपेश पाठक केके शर्मा और दीपक सैनी ने कहा कि यूनियन कर्मचारियों की समस्याओं को हर फोरम पर उठाकर उसका निराकरण के प्रयास करेगी।

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned