ओह! तो यह है धनुष और शारंग तोप

ओह! तो यह है धनुष और शारंग तोप
Oh so it's dhanush and shang gun

Gyani Prasad | Publish: Mar, 19 2019 11:01:35 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

जीसीएफ में उत्पादों की प्रदर्शनी, लोगों ने जानी धनुष और शारंग तोप की ताकत

 

जबलपुर. अक्सर धनुष और शारंग तोप का नाम सुनने वालों ने जब इन्हें अपने सामने देखा तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। मौका था मंगलवार को गन कैरिज फैक्ट्री (जीसीएफ) में आयोजित आयुध प्रदर्शनी का। लोगों का कहना था कि इससे पहले कभी इतनी बड़ी तोप नहीं देखी। जब उन्हें पता चला कि तोप से 30 से 40 किमी की दूरी पर बैठे दुश्मन और उनके ठिकानों को तबाह किया जा सकता है तो उन्हें इसकी ताकत के साथ इन उत्पादों की वजह से देश कितना सुरक्षित है, इसका अहसास हुआ।

पूरे दिन लोगों ने प्रदर्शनी का लुत्फ उठाया। इसको लेकर महिलाओं और बच्चों में खासा उत्साह रहा। आयुध निर्माणी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित हुई इस प्रदर्शनी में जीसीएफ में अब तक बनी सभी प्रकार की तोप के अलावा मोर्टार और टैंक के पाट्र्स के अलावा दूसरे उत्पादों को रखा गया। प्रदर्शनी का उद्घाटन महिला कल्याण संगठन की अध्यक्ष अर्चना जौहरी ने किया। उन्होंने फैक्ट्री में ही धनुष इंटीग्रेटेड सेंटर का भी उद्घाटन किया।

मन लगाकर करें काम
इससे पहले फैक्ट्री के प्रशासनिक भवन के सामने मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसकी शुरूआत महाप्रबंधक रजनीश जौहरी ने ध्वजारोहण से की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि फैक्ट्री के पास कई महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट हैं। इन्हें समय पर तभी पूरा किया जा सकता है जब मन लगाकर काम किया जाएगा। यही नहीं गुणवत्ता भी चाहिए। यह गुणवत्ता ऊपरी नहीं बल्कि मन से भी झलकनी चाहिए।

सेल्फी के लिए लगी होड़

प्रदर्शनी में रखी गईं ताकतवर तोप के साथ सेल्फी निकालने के लिए युवा और बच्चों में होड़ लगी रहीं। वह इन पलों को यादगार बनाने के लिए फोटो खिंचवाने में पीछे नहीं रहे। कोई गन के ऊपर चढ़ा तो कोई बैरल को पकडऩे का प्रयास करता रहा।

पी. प्रकाश सर्वोत्तम कर्मचारी घोषित

इस कार्यक्रम में कर्मचारी और अधिकारियों को उनके उत्तम कार्यों के लिए पुरस्कृत किया गया। वर्ष का सर्वोत्तम कर्मचारी का पुरस्कार टीजीएस सेक्शन के पी. प्रकाश को दिया गया। इसी प्रकार ओएफबी द्वारा बीते साल फैक्ट्री को संरक्षा शील्ड दी गई थी। यह शील्ड रिटायर्ड जेडब्ल्यूएम अशोक मिश्र को प्रदान की गई। इसी प्रकार धनुष प्रोजेक्ट में अहम रोल अदा करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कृत किया गया।


यह उत्पाद रहे शामिल
- 155 एमएम 45 कैलीबर धनुष तोप।
- एल-70 एमएम एंटी एयर क्राफ्ट गन।
- अपग्रेड 155 एमएम शारंग तोप।
- 105 एमएम लाइट फील्ड गन।
- फैक्ट्री का पहला प्रोडक्ट विंटेज गन।
- नौसेना के लिए उपयोगी कवच।
- जलसीमा की चौकसी केलिए प्रहरी गन।
- 81 और 120 एमएम मोर्टार।
- टी-90 टैंक का माउंट और अन्य पाट्र्स।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned