Nigerian gang का गुर्गा निकला शहर का यह युवक , ऐसे निकाले ४२ लाख रुपए

ऑनलाइन ठगी में गिरफ्तार हुआ आरोपित, एसटीएफ की टीम ने पकड़ा

By: deepak deewan

Published: 12 Nov 2017, 09:59 AM IST

जबलपुर. शहर में रहने वाला एक युवक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन बैंकिंग ठगी करने वाले गिरोह का गुर्गा निकला। नाइजीरियन ठगों के इशारे पर आरोपित ने भोपाल स्थित बीएसएनएल कार्यालय से एक व्यक्ति के मोबाइल फोन की डुप्लीकेट मोबाइल सिम निकलवाई। इसी सिम के जरिए नाइजिरियन ठगों ने उक्त व्यक्ति के एकाउंट से ४२ लाख रुपए निकाले। एसटीएफ की जबलपुर यूनिट ने शनिवार को उसे गिरफ्तार किया। इसके बाद टीम उसे लेकर भोपाल रवाना हुई।


ये है मामला
भोपाल के मंडीदीप निवासी आनंद जैन के एकाउंट से ४२ लाख रुपए गायब हो गए। उन्होंने इसकी शिकायत स्टेट साइबर सेल में की। स्टेट साइबर सेल को जांच के दौरान पता चला कि ठगी ग्रेटर नोएडा में रहने वाले नाइजीरिया निवासी इब्जिम पीटर, डेविड, एवरेस्ट व उनके गुर्गों ने की है। टीम ने आरोपितों को गिरफ्तार किया तो पता चला कि उनकी वीजा अवधि समाप्त हो चुकी थी।


दो हजार का था इनाम
आरोपित राजेन्द्र वारदात के बाद से फरार था। साइबर थाना पुलिस टीम उसकी तलाश में शहर आई, पर वह नहीं मिला। इस पर साइबर थाना भोपाल ने उस पर दो हजार रुपए का इनाम घोषित किया। एसटीएफ के जबलपुर यूनिट के निरीक्षक हरिओम दीक्षित और आरक्षक निर्मल सिंह को सूचना मिली कि राजेन्द्र सतनामी बर्न कम्पनी स्थित अपने घर आया है। सूचना पर टीम ने दबिश देकर उसे दबोच लिया। उसे एसटीएफ की टीम भोपाल लेकर रवाना हो गई।


आने-जाने का किराया, रुपए मिले
राजेन्द्र ने पूछताछ में बताया कि नाइजीरियन आरोपित उसे अपने साथ ले गए थे। उसे आने-जाने का किराया और काम के बदले रकम भी दी थी। आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि आनंद जैन के एकाउंट से रुपए उड़ाने के लिए उन्होंने उसके मोबाइल फोन की डुप्लीकेट सिम निकलवाई। इसके लिए वे सिविल लाइंस के बर्न कम्पनी इलाके में रहने वाले राजेन्द्र सतनामी को जबलपुर से भोपाल ले गए। उसे बीएसएनएल कार्यालय में आनंद जैन के रूप में पेश कर डुप्लीकेट सिम कार्ड निकलवाया। फिर इस सिम की मदद से अपने मोबाइल में ऑनलाइन बैंंकिंग को एक्टिवेट कर आनंद के खाते से ४२ लाख रुपए निकाल लिए।




deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned