बदनाम हुए तो क्या हुआ, नाम भी तो होगा... वाली कहावत हमेशा सही नहीं होती नेताजी

जबलपुर में नगर कांग्रेस अध्यक्ष की पोस्ट का विरोध, पंकज पुनिया को भी लेकर गुस्सा भड़का

 

By: shyam bihari

Published: 24 May 2020, 09:55 PM IST

 

जबलपुर। राजनीति में खुद को चर्चा में रखने के लिए कुछ भी करने, कहने की समस्या हमेशा रही है। इस मामले में सभी दलों की स्थिति कमोवेश एक जैसी रही है। अंतर इतना है कि कोई व्यक्तिगत हो जाता है, कोई कहावतों, मुहावरों में अपनी बात रखता है। ताल ठोंककर अपनी बात रखना में रिस्क ज्यादा रहता है। क्योंकि, आरोप लगाना जितना आसान होता है, उस पर बाद में अड़े रहना उतना ही कठिन होता है। बात सही साबित करने के लिए तथ्य चाहिए होते हैं। इसलिए बड़ा नाम है, तो वह इस बात का ध्यान रखता है कि बड़ी बात तभी बोले, जब उसके पास तथ्य हों। वहीं, अपने को चर्चा में बनाए रखना एक तरह से बीमारी है। यह सीजनल भी होती है। चुनाव के समय यह ज्यादा जोर पकड़ती है। किसी-किसी को आनुवांशिक भी होती है। ऊट-पटांग बोल देने से नाम तो चर्चा में आ जाता है। शायद कुछ नेताओं के लिए यही पर्याप्त होता है। लेकिन, बेमौसम राजनीतिक मे ंदार्शनिक हो जाना अक्सर उल्टा पड़ जाता है।

बात जबलपुर की करें। यहां के शहर कांग्रेस अध्यक्ष ने एक बयान दिया। कहावत... की चासनी में लपेटकर। कहां राजा भोज.....। फिर क्या था जबलपुर शहर की राजनीति में उबाल आ गया। सबको पता है कि जबलपुर शहर कांग्रेस के नेता का ओर-छोर कहीं से भी नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के पास फटकता भी नहीं। फिर भी नेताजी ने बयान दिया। चर्चा में आ गए। यही तो वे शायद चाहते थे। लेकिन, अब मुख्य विपक्षी तो उन पर हमलावर है ही। सामाजिक संगठन भी उग्र हो गए हैं। बात निकली थी। दूर तलक गई भी। नेताजी को अब सफाई देनी पड़ रही है। कार्रवाई की तलवार लटक रही है, वह अलग से। जबलपुर भाजपा नगर अध्यक्ष ने फेसबुक पेज पर की गई पोस्ट की कड़ी निंदा की। वहीं, फेसबुक पर की गई टिप्पणी की वात्री साहू समाज जबलपुर ने निंदा की है। माफ ी मांगने के लिए कहा है। समाज की ओर से कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी साहू समाज से हैं। इस बात का उन्हें गर्व है। समाज के मुखिया चौधरी द्वारका प्रसाद साहू, मेहते राजेंद्र साहू, चौधरी मुकेश साहू, नरेंद्र साहू, राजेश साहू, कोठिया श्रीकान्त साहू, धर्मेंद्र साहू अविलंब माफी मांगें। यदि नगर कांग्रेस अध्यक्ष माफी नहीं मांगते हैं तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

जबकि, कांग्रेस नेता पंकज पुनिया द्वारा सोशल मीडिया पर की गई धार्मिक टिप्पणी से आक्रोशित ***** उत्सव समिति की तरफ से जबलपुर के माढ़ोताल थाने में शिकायत देकर एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई। समिति संयोजक भाजपा नेता शरद अग्रवाल और अन्य लोगों ने शिकायत के माध्यम से कहा कि पंकज पुनिया के कृत्य से लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं। ऐसे कुंठित व विषवमन करने वाले व्यक्ति को सजा मिलनी चाहिए। पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की तो कोर्ट की शरण लेंगे।

BJP Congress
Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned