#BREAKING यहां बिजली बिल कम करवाने लगवाए जा रहे हैं दूसरे मीटर...जानें क्या है वजह


150 यूनिट से अधिक खपत करने वाले कर रहे आवेदन
एक सैकड़ा से अधिक आवेदन पहुंचे विद्युत कार्यालय

जबलपुर, अधिक बिजली का उपयोग करें और बिल भी कम चुकाना पड़े, इसके लिए उपभोक्ताओं ने जुगत लगानी शुरू कर दी है। प्रदेश सरकार की इंदिरा गृह ज्योति योजना का लाभ लेने के लिए कई उपभोक्ताओं ने एक मीटर होने के बावजूद दूसरा मीटर लगवाने के लिए कंपनी में आवेदन देने शुरू कर दिए हैं। हालांकि कंपनी के अधिकारी भी इन आवेदनों की जांच कर रहे हैं। जहां पहले से मीटर होगा, वहां मीटर नहीं लगाया जाएगा। इतना ही नहीं ऐसे उपभोक्ताओं पर कार्रवाई भी की जा सकती है।
दो भागों में सप्लाई बांटने का प्रयास
जानकारों की माने तो कुछ उपभोक्ताओं के घर में एक मीटर है, जिसकी खपता दो सौ से तीन सौ यूनिट प्रतिमाह है। ऐसे उपभोक्ता एक और मीटर लगावाने का प्रयास कर रहे हैं। जिससे कि घर की विद्युत सप्लाई को दो हिस्सों में बांटा जा सके और उन्हें योजना का लाभ मिल सके। क्योंकि जिन उपभोक्ताओं की मासिक बिजली खपत 150 यूनिट है, उन्हें इस माह केवल 100 रुपए का बिल पहुंचा।
आधा सैकड़ा पहुंचा आंकड़ा
कंपनी से जुड़े अधिकारियों की माने तो अब तक कंपनी क्षेत्र में लगभग पांच सौ से एक हजार ऐसे आवेदन पहुंच चुके हैं, जो नए मीटर कनेक्शन के लिए हैं। वहीं जबलपुर में यह आंकड़ा अभी आधा सैकड़ा के लगभग है।
वर्जन
अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि जितने भी आवेदन नए मीटर के लिए आएं हैं, उनकी जांच की जाए। यदि उक्त उपभोक्ता के घर पहले से विद्युत मीटर है, तो उन्हें चिन्हित किया जाए। योजना का लाभ केवल हितग्राहियों को ही देने का प्रयास किया जा रहा है।
प्रकाश दुबे, चीफ इंजीनियर, जबलपुर संभाग, मप्रपूक्षेविविकंलि
पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी
कंपनी में कुल जिले: 21
कुल घरेलू उपभोक्ता : 44 लाख 16 हजार 876
जिन्हें फायदा मिला : 38 लाख 42 हजार 159 उपभोक्ता
इनको मिला अब तक फायदा
जबलपुर संभाग: 17 लाख 33 हजार 463
सागर संभाग: 09 लाख 89 हजार 315
रीवा संभाग: 07 लाख 97 हजार 620
शहडोल संभाग: तीन लाख 22 हजार 761

virendra rajak Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned