'क्राइम पेट्रोल' देखने के बाद फांसी पर झूल गई 8 साल की बच्ची, आपको भी रुला देगा वीडियो

'क्राइम पेट्रोल' देखने के बाद फांसी पर झूल गई 8 साल की बच्ची, आपको भी रुला देगा वीडियो
painful story of hanging by an 8 years innocent girl

Prem Shankar Tiwari | Publish: Sep, 01 2018 10:56:40 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

महाराजपुर पटेल नगर में घटना से चौंक उठे लोग

जबलपुर। अधारताल थानांतर्गत महाराजपुर के पटेल नगर में शनिवार शाम झकझोर देने वाली घटना सामने आई। महिला शिक्षक की सात साल की बेटी टीवी पर'क्राइम पेट्रोल' सीरियल देखकर खेल-खेल में फंदे से झूल गई। उस समय घर में बच्ची के साथ उसका पांच साल का भाई ही था। मां दोपहर ढाई बजे लौटी, तो बेटी का शव कपड़े सुखाने वाली रस्सी में बंधे गमछे से लटका था। टीवी पर सीरियल चल रहा था। बेटे ने बताया कि 'क्राइम पेट्रोल' सीरियल में ऐसा ही दृश्य देखकर दीदी उसे दोहरा रही थी। तब से वह कुछ बोल नहीं रही है। पुलिस ने 'सीन ऑफ क्राइमÓ के आधार पर मामला जांच में लिया है।

चौथी कक्षा में थी आरुषि
अधारताल टीआई अनिल गुप्ता ने बताया कि शाम 6.30 बजे घटना की जानकारी परिजन से मिली। पटेल नगर निवासी शनिदयाल द्विवेदी सिहोरा में प्राइवेट जॉब करते हैं। उनकी पत्नी खुशीवेंद्र द्विवेदी पटेलनगर में ही शासकीय स्कूल में अध्यापक हैं। पति-पत्नी सुबह ही घर में बाहर से ताला लगाकर ड्यूटी चले गए थे। घर में चौथी क्लास में पढऩे वाली बेटी आरुषि और पांच साल का बेटा आयुष था। दोपहर ढाई बजे स्कूल से खुशीवेंद्र लौटीं, तो बेटा आयुष रो रहा था। बेटी फंदे से लटकी थी। उसे देखकर उनकी चीख निकल गई। पड़ोसी भी दौड़ कर पहुंचे, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

सतर्क रहें अभिभावक
सात साल की बच्ची का इस तरह खेल-खेल में फंदे से झूल जाना अभिभावकों के लिए चेतावनी है। इस तरह का खतरा हर घर में है। काम की व्यस्तता के चलते बच्चों पर ध्यान न दे पाना, इस तरह की घटनाओं की बड़ी वजह के रूप में सामने आई है। मामले में 'क्राइम पेट्रोल' सीरियल को देखने के बाद घटना घटित होने की बात सामने आई है। इसको संज्ञान में लिया गया है।
अमित सिंह, एसपी

बच्चों पर दें ध्यान
बच्चों में समझ नहीं होती। वे जो भी देखते हैं उसका अनुकरण करने की कोशिश करते हैं। एकल परिवार में जहां पति-पत्नी दोनों जॉब में होते हैं, वहां व्यस्तता के चलते बच्चों पर ध्यान नहीं दे पाते। बच्चों को मोबाइल या टीवी देखने की छूट दे देते हैं। इससे इस तरह की घटना सामने आती है।
रजनीश जैन, मनोवैज्ञानिक

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned