यहां के सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क जांच सिर्फ कहने की बात है

यहां के सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क जांच सिर्फ कहने की बात है
janch

Shyam Bihari Singh | Publish: May, 22 2019 08:00:00 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

लाइन में लगकर मरीजों को फूल रहा है दम

यह है स्थिति
-मेडिकल कॉलेज- नि:शुल्क जांच 63, उपलब्ध जांच 52 लगभग
-विक्टोरिया अस्पताल : पैथोलॉजी में 52 जांच, उपलब्ध मात्र 32
-14 शहरी, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र-12 नि:शुल्क जांच, किसी भी सेंटर में नहीं
-01 हजार के लगभग मरीज मेडिकल की ओपीडी में रोज
-700 के लगभग मरीज जिला अस्पताल की ओपीडी में रोज
-200 के लगभग मरीज रांझी अस्पताल की ओपीडी में रोज
-40 से 60 के लगभग मरीज प्रति शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में
-801 बिस्तर का है मेडिकल कॉलेज अस्पताल
-300 बिस्तर है जिला अस्पताल में
-30 बिस्तर है सिविल अस्पताल रांझी में
जबलपुर। सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क जांच योजनाओं के तहत की जाने वाली अधिकांश जांच केवल बोर्ड पर ही दिख रही हैं। जिले में मेडिकल कॉलेज अस्पताल से लेकर विक्टोरिया जिला अस्पताल, सिविल अस्पताल रांझी में निर्धारित नि:शुल्क पैथोलॉजी व अन्य जांच नहीं की जा रही हैं। जिले में 14 के लगभग शहरी व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं, जहां भी बारह तरह की नि:शुल्क जांच उपलब्ध कराने के निर्देश हैं। लेकि, यहां जांच नहीं की जा रहीं। जिले में केवल एल्गिन हॉस्पिटल में ही सभी उपलब्ध 32 तरह की जांच हो रही हैं।
जिला अस्प्ताल में किट की कमी
कायाकल्प पुरस्कार योजना में प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले विक्टोरिया अस्पताल में मरीजों को सुविधाओं के अभाव में परेशानी हो रही है। जांच किट नहीं होने से पैथोलॉजी में 52 में से मात्र 32 प्रकार की ही जांच हो रही है। खून-पेशाब से सम्बंधित जांचोंं के लिए मरीजों को मेडिकल अस्पताल रेफर किया जा रहा है। संक्रमण का पता लगाने की जांच दोपहर एक बजे तक ही हो रही है। इसके बाद पहुंचने वाले मरीजों को दूसरे दिन आने के लिए कहा जा रहा है। स्त्री रोग से सम्बंधित जांच के लिए मरीजों को एल्गिन अस्पताल भेजा जा रहा है। सर्जरी के पहले के कई ऐसी जांच है जो नहीं हो रही है। जिसके लिए मरीजों को निजी पैथोलॉजी से जांच करानी पड़ रही है।
जिला अस्पताल में ये जांच नहीं
जिला अस्पताल में कल्चर टेस्ट, हड्डी के रोग से सम्बंधित आरए फैक्टर टेस्ट, पेट से सम्बंधित सिरम इलेक्ट्रोलाइट टेस्ट,बॉडी में इन्फेक्शन के लिए पीआरपी और हार्ट की जांच के लिए पीपीकेएमबी टेस्ट, पैप स्मेअर और टार्च टेस्ट, सर्जरी से पहले ब्लड टेस्ट पीटी, पीटीटी,मिनेंजाइटिस के लिए पीएसएफ टेस्ट नहीं हो रहे हैं।
मेडिकल में भी समस्या
मेडिकल कॉलेज में निर्धारित जांचों की संख्या कम है। यहां 63 तरह की नि:शुल्क जांच का उल्लेख है। लेकिन, कुल 50 से 52 जांच ही हो रही है। उसमें भी कई मौके ऐसे आते हैं जब किट नहीं होने का हवाला देकर जांच टाल दी जाती है।
शहरी स्वास्थ्य केंद्रों में जांच नहीं
जिले में शहरी व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र 14 हैं। इनमें से प्रत्येक केंद्र में 12 तरह की जांच नि:शुल्क करने के निर्देश हैं। इनमें हीमोग्लोबिन, ब्लड शुगर, यूरिन शुगर एल्बुमिन, मलेरिया सहित कई ऐसी बेसिक जांच उपलब्ध होने का दावा किया जा रहा है। अभी यहां पर जांच के लिए टेक्नीशियन की नियुक्तिकी गई है। उपकरण भी खरीदे गए हैं, लेकिन जांच नहीं हो रही है।

पैथोलॉजी टेस्ट के बारे में जानकारी देने के लिए पैथोलॉजिस्ट से बात करनी होगी। वैसे पैथोलॉजी में 32 से अधिक जांचें हो रही होंगी।
डॉ. एसके पांडे, सिविल सर्जन

पैथोलॉजी टेस्ट की समीक्षा करेंगे। जो जांचें नहीं हो रही हैं, उन्हें भी शुरू कराया जाएगा। स्त्री रोग से सम्बंधित जांच एल्गिन अस्पताल में कराई जाती है।
डॉ. एमएम अग्रवाल, सीएमएचओ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned