scriptpeople are forced to buy water in these villages water crisis | भीषण जलसंकट : इन गांवों में खरीदकर पानी पीने को मजबूर हैं लोग | Patrika News

भीषण जलसंकट : इन गांवों में खरीदकर पानी पीने को मजबूर हैं लोग

प्रदेश की सबसे बड़ी जीवनदायिनी नर्मदा के किनारे बसे जबलपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में ही कई लोगों को पीने का पानी तक नसीब नहीं हो रहा है। जानिए पूरा मामला...।

जबलपुर

Updated: May 12, 2022 07:18:42 pm

जबलपुर. एक तरफ तो मध्य प्रदेश सरकार नल जल योजना के तहत घर-घर पीने का पानी पहुंचाने का दावा करते हुए करोड़ों रुपए खर्च कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ प्रदेश की सबसे बड़ी जीवनदायिनी नर्मदा के किनारे बसे जबलपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में ही कई लोगों को पीने का पानी तक नसीब नहीं हो रहा है। आलम ये है कि, ये लोग पानी खरीदकर पीने को मजबूर हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि, ये लोग डिस्टिल्ड वॉटर खरीदकर पी रहे हैं तो नहीं। यहां के आदिवासियों को गांव में पीने के लिए पानी 100 रुपए प्रति माह की दर से मिल रहा है। ये पानी वो लोग बेच रहे हैं, जिनके खेत या घर में नलकूप लगे हैं। स्थानीय विधायक इस समस्या को कई बार विधानसभा में उठा चुके हैं, बावजूद इसके भीषण गर्मी के बीच भी समस्या जस की तस है।

News
भीषण जलसंकट : इन गांवों में खरीदकर पानी पीने को मजबूर हैं लोग


आपको बता दें कि, जिले के बरगी विधानसभा इलाके के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत देवरी नवीन के लोग 100 रुपए महीने में निजी पानी किसान के ट्यूबवेल से पीने के लिए ले रहे हैं। इसपर भी बड़ी समस्या ये है कि, अगर गांव में बिजली न हो तो फिर उस पानी से भी ग्रामीण महरूम ही रह जाते हैं। गांव के सरपंच रामकुमार सैयाम का कहना है कि, गांव में बिजली न रहना भी काफी बड़ी समस्या है। इसलिए जब बिजली होती है, तब पानी भर लेते हैं। उन्होंने बताया कि, किसान को जो 100 रुपए महीना पानी लेने पर चुकाया जाता है, उसमें से 50 रुपए वो हर परिवार के लिए अपने पास से देते हैं।


वहीं, गांववालों का भी कहना है कि अगर बिजली नहीं आती तो कुएं का पानी पीते हैं और अन्य उपयोग के लिए भी उसी से पानी लेते हैं। लोगों का कहना है कि, यह व्यवस्था उन्होंने तब की है जब शासन-प्रशासन से उनके बार बार कहने के बाद अब उम्मीद खत्म हो चुकी है, ताकि यहां लोगों की प्यास के कारण मौत न हो।

यह भी पढ़ें- शौच के लिए घर से निकली महिला का अपहरण के बाद गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार


क्या कहते हैं सरपंच?

सरपंच रामकुमार सैयाम के अनुसार, हमारी ग्राम पंचायत के दो-तीन गांव पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। आसपास के इलाकों में भी इस तरह के ही हालात हैं। हमने अपनी ग्राम पंचायत में ये व्यवस्था कर रखी है, जिससे प्राइवेट नलकूप से पानी लेते हैं। अपने गांव टिनहेता में 50 रुपए हर घर से लेकर और 50 रुपए अपने पास से मिलाकर 100 प्राइवेट नलकूप वाले को देते, तब कहीं जाकर यहां लोगों तक उनकी मूल जरूरत का पानी पहुंच पा रहा है।


'जिम्मेदारों को कोई फिक्र नहीं'

गौरतलब है कि बरगी विधानसभा के चरगवां इलाके में पानी का गंभीर संकट है.। सरकारी नलकूप सूख जाने के कारण यहां अनेक गांवों में पानी का संकट बना हुआ है। यहां के कांग्रेस विधायक संजय यादव भी कई बार विधानसभा में पानी की समस्या को उठा चुके हैं, बावजूद इसके अबतक क्षेत्र के ग्रामीणों की समस्या पर किसी जिम्मेदार का ध्यान नहीं गया है।

सांभर ने बाइक सवार पर लगाई छलांग, देखें वीडियो

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: अपनी पत्नी पर खूब प्रेम लुटाते हैं इस नाम के लड़केबगैर रिजर्वेशन कर सकेंगे ट्रेन में यात्रा, भारतीय रेलवे ने जारी की सूचीनाम ज्योतिष: इन 3 नाम की लड़कियां जहां जाती हैं वहां खुशियों और धन-धान्य के लगा देती हैं ढेरजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंधन के देवता कुबेर की इन 4 राशियों पर हमेशा रहती है कृपा, अच्छा बैंक बैलेंस बनाने में रहते है कामयाबआपके यहां रहता है किराएदार तो हो जाएं सावधान, दर्ज हो सकती है एफआईआर24 हजार साल ठंडी कब्र में दफन रहा फिर भी निकला जिंदा, बाहर आते ही बना दिए अपने क्लोनअंक ज्योतिष अनुसार इन 3 तारीख में जन्मे लोगों के पास खूब होती है जमीन-जायदाद

बड़ी खबरें

Uniform Civil Code: मोदी सरकार का अगला एजेंडा है समान नागरिक संहिता, उत्तरखंड से शुरुआत, राज्यों में मंथनआज केरल में दस्तक दे सकता है मानसून, यूपी-बिहार सहित कई जगह बारिश का अलर्टभारत और बांग्लादेश के बीच 2 साल बाद फिर शुरू हुई ट्रेन, कोलकाता से हुई रवानाब्राजील में लैंडस्लाइड और बाढ़ से 31 की मौत, हजारों लोग हुए बेघरIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाArmy Recruitment Change: 'टूअर ऑफ ड्यूटी' के तहत 4 साल के लिए होंगी भर्तियां, फिर 25% युवाओं का पूर्ण चयनRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'भारत बन सकता है Vehicle Scrapping का हब, हर जिले में शुरू होंगे 2 से 3 व्हीकल स्क्रैपेज सेंटर : नितिन गडकरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.