अचानक बेफिक्र हो गए लोग! वैक्सीनेशन का पूरा नहीं हो रहा लक्ष्य

जबलपुर जिले में अभी भी लगभग सवा तीन लाख लोगों ने नहीं लगवाया है कोरोना से बचाव का टीका

 

 

By: shyam bihari

Published: 13 Sep 2021, 07:32 PM IST

 

जबलपुर। कोरोना से सुरक्षा के लिए वैक्सीन की डोज से जबलपुर जिले में अभी भी बहुत से लोग छूटे हुए हैं। संक्रमण की तीसरी लहर से बचाव में वैक्सीनेशन अहम माना जा रहा है। लेकिन, तमाम कवायद के बाद भी जिले की पूरी आबादी को वैक्सीन की पहली डोज नहीं लग सकी। स्वास्थ्य विभाग लोगों को आसानी से टीका लगाने के लिए जगह-जगह केंद्र से लेकर कई क्षेत्रों में वैक्सीनेशन मोबाइल वैन दौड़ा रहा है। इसके बावजूद 15 दिन से वैक्सीनेशन लक्ष्य से पीछे चल रहा है। इसमें भी पहला डोज लगवाने वालों की संख्या कम है। जिले में लगभग ऐसे सवा तीन लाख व्यक्ति होने का अनुमान है, जिन्होंने अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाई है।
महाभियान में दो दिन रेकॉर्ड के बाद धीमी पड़ी गति
तिथि : टीका लगे
25 अगस्त : 79335
26 अगस्त : 50043
27 अगस्त : 208
28 अगस्त : 27778
31 अगस्त : 37391
1 सितंबर : 30058
2 सितंबर : 24430
3 सितंबर : 5261
4 सितंबर : 23279
5 सितंबर : 2268
6 सितंबर : 20898
7 सितंबर : 5233
8 सितंबर : 19754
9 सितंबर : 8545
10 सितंबर : 13453
11 सितंबर : 22431
12 सितंबर : 15682
जिले की स्थिति
- 18 लाख 60 हजार के लगभग मतदाता।
- 15 लाख के करीब लोगों को फस्र्ट डोज लगी।
- 1 लाख 29 हजार 378 टीके महभियान के दूसरे चरण में पहले दो दिन लगे थे।
- 2 लाख 50 हजार के करीब लोगों ने इसके बाद 15 दिन में टीका लगवाया है।
वैक्सीनेशन एक नजर में
- 15 लाख लोगों ने फस्र्ट डोज लगवाया है। इसमें 6 लाख को दूसरी डोज लगी है।
- 3 लाख पच्चीस हजार के करीब लोगों को जिले में फस्र्ट डोज अभी लगनी है।
- 1 लाख 75 हजार के करीब इसमें ग्रामीण क्षेत्र के व्यक्ति होने का अनुमान है।
- 1 लाख 50 हजार के करीब इसमें शहरी क्षेत्र के व्यक्ति होने का अनुमान है।
- 40 से ज्यादा मोबाइल वैक्सीनेशन वैन शहरी क्षेत्र में टीका लगाने घूम रही है।
- 5-5 मोबाइल वैन ग्रामीण क्षेत्र में प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर दौड़ाई जा रही है।
17 को फिर महाभियान की तैयारी
स्वास्थ्य विभाग जल्द से जल्द जिले में प्रत्येक व्यक्तिको कोरोना की पहली डोज लगाकर तीसरी लहर के संक्रमण के खतरे को कम करने की कोशिश में है। 30 सितंबर तक सौ प्रतिशत आबादी के वैक्सीनेशन का लक्ष्य है। इसके लिए फिर से महाभियान की तैयारी है। 17 सितंबर को टीकाकरण केंद्रों में ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाकर वैक्सीन लगाने की योजना बनाई जा रही है। लोगों की सहूलियत के लिए पहले ही जिला अस्पताल में चौबीस घंटे और प्रमुख सरकारी अस्पतालों में सप्ताह में सात दिन टीका लगाने की शुरुआत हो चुकी है। मौके पर पंजीयन कर तुरंत टीका लगाया जा रहा है। कोरोना वैक्सीनेशन में अब गांवों के मुकाबले शहर पिछड़ता नजर आ रहा है। सौ फीसदी टीकाकरण के लिए बीएलओ की सहायता से वैक्सीन लगने से छूटे लोगों को ढूंढ़ा जा रहा है। मोबाइल वैक्सीनेशन वैन ग्रामीण क्षेत्र में छूटे हुए लोगों तक पहुंचकर टीकाकरण सुनिश्चित कर रही है। शहर में अधारताल क्षेत्र में कम टीकाकरण वाले क्षेत्रों में भी धीरे-धीरे टीका लगाने वाले बढ़ रहे हैं। लेकिनए गति धीमी होने से वैक्सीनेशन में गांवों के मुकाबले शहर पिछड़ रहा है।

shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned