यौन संबंधों पर लड़कों को मैडम ने कुछ ऐसे समझाया, देखते रह गए लोग - देखें वीडियो

असुरक्षित यौन संबंधों को लेकर और उनसे होने वाली बीमारियों के बारे में अधिक से अधिक जानकारी होना आवश्यक हो गया है

By: Lalit kostha

Published: 10 Feb 2018, 02:31 PM IST

जबलपुर। वर्तमान समय में सेक्सुअल एजुकेशन को लेकर पूरे देश में चर्चा हो रही है। कोई इसके पक्ष में हैं तो कोई इसे भारतीय संस्कृति के विरुद्ध बता रहा है। लेकिन जो भी हो आज आधुनिकता और समय को देखते हुए यह बहुत जरूरी हो गया है। फिर चाहे सामान्य व्यक्ति हो बच्चे हो बच्चियां हो। सभी को असुरक्षित यौन संबंधों को लेकर और उनसे होने वाली बीमारियों के बारे में अधिक से अधिक जानकारी होना आवश्यक हो गया है।

READ MORE- खाप से भी खतरनाक है ये समाज, दहेज मांगने पर करता है ये काम


जबलपुर में सेक्सुअल एजुकेशन को लेकर वैसे तो कई कार्यक्रम होते रहते हैं लेकिन शनिवार को एक ऐसा कार्यक्रम आयोजित हुआ जिसमें समान नहीं बल्कि दिव्यांगों को स्कूल एजुकेशन की जानकारी दी गई। विकलांग सेवा भारती की सचिव मिताली बनर्जी ने विकलांग बच्चों को इस तरह समझाया कि उन्हें बात जल्दी समझ आ जाए इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

READ MORE- जयमाला में सबके सामने दुल्हन के जेवर उतार ले गए चोर

विकलांग सेवा भारती के तत्वाधान में पीएसएम कॉलेज में विकलांग सम्मेलन आयोजित किया गया। कार्यक्रम में वक्ताओं रूप में शामिल और विकलांग सेवा भारती की सचिव मिताली बनर्जी ने दिव्यांगों को सेक्सुअल एजुकेशन दिए जाने पर वक्तव्य दिया उन्होंने बताया कि किस तरह से आम इंसानों की तरह ही दिव्यांगों को भी सही उम्र में सेक्सुअल एजुकेशन प्रदान की जानी चाहिए, इसके साथ ही उनके शरीर में होने वाले परिवर्तनों के बारे में भी जानकारी दी कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों से दिव्यांग टीचर और दिव्यांग शामिल हुए हैं जिन्हें इस तरह की ट्रेनिंग दी जा रही है।


READ MORE-

बड़ी खबर : महाशिवरात्रि से पहले इस शिवमंदिर में हुआ रहस्मय चमत्कार, फूटा भक्तों का सैलाब, देखें वीडियो

ये हैं सिद्ध शिव मंत्र , जाप करते ही प्रसन्न हो जाएंगे महादेव

महाशिवरात्रि 2018 : भगवान शिव को प्रसन्न करने करना है, करें इस पूजन सामग्री से पूजा

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned