scriptplight of city ponds | शहर के तालाबों की दुर्दशा | Patrika News

शहर के तालाबों की दुर्दशा

बचे तालाबों के रखरखाव का अभाव, कुछ पर हो गई बसाहट

 

जबलपुर

Updated: April 30, 2022 11:18:31 am

जबलपुर. वीरांगना रानी दुर्गावती ने ससुर के नाम पर संग्राम सागर, खुद के नाम पर रानीताल और अपने रियासत के दीवान आधार सिंह के नाम पर अधारताल और दासी के नाम पर चेरीताल तालाबाों का निर्माण करवाया था। इस तरह शहर को 52 ताल-तलैयों का शहर कहा जाता था। गोंडवानाकालीन में जनव्यवस्था को वर्ष भर जीवित रखने के लिए उंचाई के हिसाब से तालाब बनाए गए थे, लेकिन समय गुजरने के साथ ही इन तालाबों की दुर्दशा हो गई। कुछ तालाब पूर दिए गए। निगरानी और रखरखाव के अभाव के कारण इनमें कचरा फेंका जाने लगा। अब स्थिति यह है कि प्रशासन ने तालाबों को जीवित करने का बीड़ा उठाया है, लेकिन उनकी हालत जस की तस है।
plight of city ponds
तालाबों के रखरखाव का अभाव, कुछ पर हो गई बसाहट
मढ़ाताल, माढ़ोताल, श्रीनाथ की तलैया कि हालात ऐसी है कि इनकी मौजूदगी का पता लगाना मुश्किल है। अन्य तालाबों में रानीताल, गंगासागर, चौकीताल, हनुमानताल, आधारताल, गोकलपुर, इमरतीताल, प्रेमसागर, संग्रामसागर, देवताल सहित अन्य ताल-तलैया अपने वजूद को बचाने का संघर्ष कर रही हैं। इसमें इक्का-दुक्का तालाबों को स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट लिया है लेकिन जीर्णोद्वार में खानापूर्ति की जा रही है।
नर्मदा का नहीं मिला फायदा

शहर को नर्मदा के साथ ही परियट, गौर जैसी सहायक नदियों का वरदान मिला है। इन सौगातों को सहेजने में दिशा में ठोस प्रयास नहीं किए जाने से तेजी से प्रदूषित हुआ है। मौजूदा स्थिति यह है कि 52 ताल-तलैयों में से बमुश्किल 36 तालाब ही जीवित बचे हैं, जिनका अस्तित्व खतरे में है।
वॉटर प्लस का तमगा छिना

शहर में नदी-तालाबों का संरक्षण-संर्वधन करके गंदे पानी को उपचारित कर उसका पुन: उपयोग करते तो कामयाबी मिलती। 52 ताल-तलैयों के शहर को स्वच्छता सर्वेक्षण में वाटर प्लस-प्लस का तमगा हासिल होता, लेकिन प्रशासनिक इच्छाशक्ति की कमी से नगर निगम के अधिकारियों ने नदी, तालाब के नाम पर करोड़ों खर्च किए लेकिन वाटर प्लस-प्लस के हकदार नहीं बन पाए।
ये है मुख्य तालाबों के हाल

गुलौआताल- स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत चार करोड़ की लागत से किया सौंदर्यीकरण।

संग्राम सागर - सौंदर्यीकरण में करीब एक करोड़ किए खर्च हो चुके हैं लेकिन स्थिति जस की तस।इमरती तालाब- साफ-सफाई का अभाव, तालाब में भरी पड़ी चोई।
रानीताल - यह सिमटकर छोटी हो गया, पानी इतना प्रदूषित है कि इसका इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है।गोकलपुर - स्थानीय लोग अपने स्तर से कर रहे सफाई।

गोपालबाग- यह तालाब लगभग समाप्त हो चुका है। कचरा फेंका गया है।सीता सरोबर- लाखों रुपये खर्च किए गए हैं लेिकन स्थिति जस की तस है।
- तालाबों और नदी में मिलने वाले नाले-नालियों के पानी को रोकने की व्यवस्था की जा रही है। तालाबों का अस्तित्व हर हाल में बचाया जाएगा।

कमलेश श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री, नगर निगम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी, इन राज्यों में आंधी और बारिश की अलर्टLucknow: क्या बदलने वाला है प्रदेश की राजधानी का नाम? CM योगी के ट्वीट से मिले संकेतबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाबLIC IPO : एलआईसी आईपीओ आज होगा सूचीबद्ध, इतने रुपए पर होगी लिस्टिंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.