उखडऩे लगी घटिया निर्माण की परत, फोरलेन में पड़ी दरारें

क्रेक वाले हिस्से को भरने उखाड़ रहे सडक़

By: sudarshan ahirwa

Published: 12 May 2019, 08:17 PM IST

जबलपुर. सिहोरा. एनएच-7, फोरलेन सडक़ में निर्माण के साथ ही कई जगहों पर दरारे पड़ गई हैं, जो 15 से 20 फीट की लम्बाई तक की हैं। फोरलेन सडक़ जुझारी बायपास, रामपुर के आगे बरनू तिराहा से लेकर गाधीग्राम बायपास मार्ग पर सबसे ज्यादा खराब है। यहां कई जगह दरारें गहरी होने के कारण दोपहिया वाहनों के चाक इनसे निकलते ही लहरा जाते हैं। फोरलेन निर्माण में बरती गई लापरवाही को छिपाने अब निर्माण कंपनी सडक़ के खराब हिस्से को जेसीबी से उखड़वा रही है।

सडक़ की दरारों में लगा है कैमिकल का लेप
फोरलेन पर पड़ी दरारों को भरने के लिए कैमिकल का लेप भी लगाया गया था, लेकिन यह लेप भी इन दरारों नहीं छुपा पा रहा है। यही कारण है कि जुझारी बायपास से लेकर रामपुर, गांधीग्राम बाइपास की सडक़ की दरारों को छुपाने के लिए कैमिकल से भरवा दिया है, लेकिन यह दरारें पुन: बड़ी हो गई हैं।

अब उखाड़ रहे सडक़
निर्माण कंपनी अब फोरलेन में पड़ी दरारों वाले हिस्सों को उखाडऩे का काम जेसीबी मशीनों से करवा रही है। बरनू तिराहे पर फोर लाइन सडक़ के एक हिस्से को उखाड़ा गया है, ताकि नए सिरे से सीसी सडक़ का निर्माण किया जा सके।

सडक़ को ठीक करने का नियम
जानकारों का कहना है कि सीसी सडक़ का निर्माण ब्लॉक में किया जाता है। यदि किसी ब्लॉक में दरार आई हैं तो इसका मतलब प्रयोग की गई सामग्री मानक के अनुरूप नहीं है, वहीं दरार आने के बाद पूरे ब्लाक को उखाडऩे के बाद दोबारा बनाया जाना चाहिए। यदि दरारों को कैमिकल से भरा गया है तो यह गलत है। पूरे ब्लॉक को उखाडकऱ दोबारा बनाना चाहिए।

sudarshan ahirwa
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned