Breaking बिजली की मांग में उछाल, पिछले वर्ष के बराबर आई...यह है कारण

जिले में उद्योग और बड़े प्रतिष्ठान खुलने का असर

By: virendra rajak

Published: 14 Jun 2020, 06:30 PM IST

पिछले वर्ष बिजली की मांग
मार्च से जून तक:- 7 से 8 हजार मेगावॉट

जबलपुर. प्रदेश में फिर से बिजली की मांग में इजाफा हुआ है। सोमवार से सभी उद्योग धंधे और व्यापारिक व व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुलने के बाद मांग बढ़ी। सभी प्रतिष्ठान खुलने से लॉक डाउन के मुकाबले एक से सवा हजार मेगावॉट बिजली की मांग प्रदेश में बढ़ी। लॉक डाउन के दौरान बिजली की खपत केवल घरों में ही हो रही थी, जिसके चलते शहर समेत पूरे प्रदेश में बिजली की मांग का ग्राफ गिर गया था।
इस वर्ष यह रहा आंकड़ा
अप्रैल:- लगभग छह हजार मेगावॉट
मई:- लगभग छह हजार मेगावॉट
जून में अब तक:- लगभग सवा सात हजार मेगावॉट
शहर में सोमवार से छोटे व बड़ी औद्योगिक इकाइयों के साथ ही बड़े व्यावसायिक प्रतिष्ठान, शॉपिंग मॉल, होटल व रेस्टॉरेंट समेत छोटी बड़ी दुकानें भी खोली गईं। इसका असर यह हुआ कि प्रदेश में एकाएक बिजली की मांग में बढ़ोतरी हुई।
बारिश में कम होगी डिमांड
जून के दूसरे या तीसरे सप्ताह से मानसून आ जाएगा। मौसम में थोड़ी सी ठंडक आते ही घरों समेत सभी स्थानों पर एसी कूलर बंद होंगे। जिससे मांग का ग्राफ बारिश में फिर से गिरेगा। बारिश के दिनों में प्रदेश में जल विद्युत गृहों से बिजली की सप्लाई की जाएगी। इस दौरान ताप विद्युत गृहों का मैंटेनेंस किया जाएगा।

virendra rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned