नोटबंदी से 25 प्रतिशत बढ़ी आय, दिसम्बर का टारगेट 15 के पहले पूरा

नोटबंदी से 25 प्रतिशत बढ़ी आय, दिसम्बर का टारगेट 15 के पहले पूरा
notebandi

neeraj mishra | Updated: 23 Dec 2016, 11:56:00 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर सचिव मनोज श्रीवास्तव ने पत्रिका से बातचीत में दी जानकारी

जबलपुर। केन्द्र सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद से प्रदेश सरकार के वाणिज्यिक कर विभाग की आय में बढ़ोतरी हुई है। नवंबर में टारगेट से 24 प्रतिशत अधिक वाणिज्यिक कर जमा हुआ, जबकि दिसम्बर का टारगेट 15 तारीख के पहले ही पूरा हो चुका है। यह जानकारी जबलपुर प्रवास पर आए प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर मनोज श्रीवास्तव ने पत्रिका से बातचीत में दी। 

प्रमुख सचिव ने बताया कि नोटबंदी के चलते टैक्स न देने वाले भी कर जमा कर रहे हैं। इससे प्रदेश भर में वाणिज्यिक कर विभाग में लंबित मामलों में से लगभग 50 प्रतिशत का निराकरण हो गया है। आधिकारिक आंकड़ा जनवरी के पहले सप्ताह में मिल सकेगा।

रजिस्ट्री आय घटी

श्रीवास्तव ने बताया कि पूरे प्रदेश में प्रतिदिन करीब 4000 रजिस्ट्री होती थी। नोटबंदी के बाद यह आंकड़ा करीब 23 प्रतिशत गिरकर 1200 रजिस्ट्री के आसपास आ गया है। इससे प्रॉपर्टी से मिलने वाली आय में कमी आई है, जो मार्च 2017 तक पूरी हो जाएगी। 

समय सीमा बढ़ाने की मांग

वाणिज्यिक कर टैक्स बार एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने प्रमुख सचिव से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन के अध्यक्ष एमएम नेमा, संरक्षक पीआर मिश्रा, महासचिव शिशिर नेमा आदि सदस्यों ने कहा कि साल 2014-15 की कर निर्धारण सीमा 31 दिसम्बर है। नोटबंदी के बाद उद्यमियों व व्यापारियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। ज्ञापन में निर्धारण सीमा फरवरी 2017 करने की मांग की गई है। प्रमुख सचिव ने इस पर गंभीरता से विचार करने की बात कही है।
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned