युद्ध क्षेत्र के लिए निजी क्षेत्र की कंपनी ने आजमाए हाथ, लक्ष्य पर बरसाए गोले

जबलपुर के एलपीआर खमरिया में परीक्षण, निजी कंपनी यूएलएच ने तैयार की है तोप

 

 

By: shyam bihari

Published: 17 Oct 2020, 07:55 PM IST

जबलपुर। निजी कंपनी की ओर से मेक इन इंडिया के तहत तैयार की गई 155 एमएम 39 कैलीबर अल्ट्रा लाइट होवित्जर (यूएलएच) तोप ने खमरिया स्थित लॉन्ग प्रूफ रेंज (एलपीआर) में जोरदार निशाना साधा। बीते कुछ दिनों से तोप का लगातार परीक्षण किया जा रहा है। लगभग सभी राउंड सटीक साबित हुए हैं। अभी तोप की फायरिंग चलेगी। सितंबर के आखिर में लगातार फायरिंग होनी थी लेकिन रेंज में कुछ अधिकारियों के कोरोना संक्रमित होने से इसे रोक दिया गया था। 24 से 39 किमी दूरी तक निशाना साधने वाली वाली भारत फोर्ज लिमिटेड की इस तोप को पहली बार लॉन्ग प्रूफ रेंज लाया गया है। इसका परीक्षण शुरू हुआ था लेकिन कोरोना के कारण रेंज में गतिविधियों को रोक दिया गया है। अभी कुछ दिनों से फिर से यूएलएच सहित दूसरी तोप का परीक्षण यहां प्रारंभ हुआ है। शून्य डिग्री से लेकर तमाम डिग्रियों पर बैरल से गोला बट में दागे गए। निजी कंपनी के साथ ही सेना के विशेषज्ञ भी तोप की कार्यप्रणाली का परीक्षण कर रहे हैं।
रेंज से बढेग़ा राजस्व
एलपीआर प्रबंधन ने रक्षा मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुरूप पहली बार किसी निजी रक्षा कंपनी की तोप का परीक्षण करने की अनुमति दी है। अधिकारी इस परीक्षण को बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं। उनका कहना है कि अब एलपीआर उन कंपनियों के लिए खुल गया है जो कि रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया में भागीदारी करते हुए हथियार तैयार कर रहे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि आगामी दिनों में तोप निर्माण के साथ बम तैयार करने वाली कंपनियां भी यहां आएंगी। इससे रक्षा मंत्रालय को उसके संसाधनों का इस्तेमाल करने वाली कंपनियों से अतिरिक्त आय अर्जित करने का अवसर भी मिलेगा। एलपीआर खमरिया के कमांडेंट ब्रिगेडियर निश्चय राउत ने कहा कि यूएलएच तोप का फिर से परीक्षण प्रारंभ हुआ है। कोरोना संक्रमण की वजह से इसे रोका गया था। बीते कुछ दिनों से लगातार फायरिंग की गई है। यह रेंज के लिए बड़ी उपलब्धि है। इससे नए अवसर भी सृजित होंगे।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned