प्रॉपर्टी रजिस्ट्री पर संकट, स्टाम्प के लिए भटक रहे लोग, वेंडर्स के भी हाथ खाली

प्रॉपर्टी रजिस्ट्री पर संकट, स्टाम्प के लिए भटक रहे लोग, वेंडर्स के भी हाथ खाली

 

By: Lalit kostha

Published: 03 Jul 2021, 08:38 AM IST

जबलपुर। शपथ पत्र बनवाना हो या पावर ऑफ अटॉर्नी, इनके दस्तावेजों के लिए जिले में 50 और 100 रुपए के स्टाम्प की भारी कमी है। लोग स्टाम्प लेने के लिए भटकने को मजबूर हैं। ऐसे में लोगों को कम कीमत के ज्यादा स्टाम्प खरीदकर काम चलाना पड़ रहा है। वेंडर भी परेशान हैं। उन्हें भी तीन माह से जिला कोषालय से स्टाम्प नहीं मिल रहे। जिले में रोजाना लाखों रुपए के स्टाम्प की खपत होती है। सूत्रों ने बताया कि जिला कोषालय में फरवरी से स्टाम्प की कमी होने लगी थी। फिर भी कोषालय ने पर्याप्त स्टाम्प का ऑर्डर नासिक स्थित सिक्यूरिटी प्रिटिंग प्रेस को नहीं भेजा।

ई-स्टाम्प 100 रुपए से ऊपर
नॉन ज्यूडिशियल स्टाम्प 10, 20, 50 और 100 रुपए में आते हैं। इससे ऊपर की कीमत के ई-स्टाम्प की व्यवस्था कुछ साल पहले शुरू की गई थी। इन कीमत के स्टाम्प की कमी अक्सर सामने आती है। लोगों को 50 रुपए के स्टाम्प का काम है, तो इसकी कमी की वजह से 10 या 20 रुपए के स्टाम्प खरीदना पड़ता है। इसके लिए उन्हें ज्यादा पैसे देने पड़ते हैं। इस कीमत के स्टाम्प भी उन्हीं वेंडर्स के पास हैं, जिनके पास पहले से स्टॉक है।

यहां होता है उपयोग
50 रुपए के स्टाम्प का उपयोग शपथ पत्र में होता है। 100 रुपए कीमत का स्टाम्प शपथ पत्र के अलावा पावर ऑफ अटॉर्नी, रजिस्ट्री की नकल की प्रतिलिपि, सर्विस बॉन्ड, गिफ्ट डीड, पार्टनरशिप डीड में इस्तेमाल किया जाता है।

कोरोना की वजह से स्टाम्प की सप्लाई बाधित हुई है। हाल में डिमांड नासिक स्थित सिक्युरिटी प्रिंटिंग प्रेस भेजी गई है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही सप्लाई मिल जाएगी।
- पीके अहिवासी, जिला कोषालय अधिकारी

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned