phd entrance test 2019 : 50% अंक हासिल करने पर करेंगे क्वालीफाई, निगेटिव मार्किंग नहीं

एमयू का पहला पीएचडी एंट्रेंस टेस्ट आज

By: abhishek dixit

Published: 14 Jun 2019, 08:02 PM IST

जबलपुर. मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के बहुप्रतिक्षित पीएचडी एंट्रेंस टेस्ट का शनिवार को आयोजन होगा। यह विवि की पहली पीएचडी प्रवेश परीक्षा है। परीक्षा के लिए प्रदेश एक मात्र केंद्र नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज को बनाया गया है। परीक्षा की शुरुआत सुबह 10 बजे होगी। प्रवेश परीक्षा में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक हासिल करने पर उम्मीदवार पीएचडी करने के लिए क्वालीफाई करेंगे। लेकिन पीएचडी पाठ्यक्रम में प्रवेश की पात्रता एंट्रेंस टेस्ट की मेरिट के आधार पर स्वीकृत सीटों पर मिलेगी। विवि में पीएचडी शुरू करने के लिए कुलपति डॉ. आरएस शर्मा द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे थे। करीब एक साल से परीक्षा के लिए कवायद की जा रही थी। दो घंटे के प्रश्न पत्र में सौ ऑब्जेक्टिव सवाल होंगे। इनके चार जवाबों में सही जवाब को उत्तर पुस्तिका में दर्ज करना होगा।

5 फैकल्टी, 268 उम्मीदवार
विवि की ओर से पीएचडी के लिए पांच संकायों में सीटें निर्धारित की गई है। इसमें मेडिकल, डेंटल, आयुर्वेद, नर्सिंग, और फिजियोथैरेपी शामिल है। इन सभी संकायों को मिलाकर कुल 268 उम्मीदवार प्रवेश परीक्षा के लिए पात्र मिले है। संबंधितों के प्रवेश पत्र विवि की वेबसाइट में अपलोड कर दिए गए है।

आखिरी वक्त पर घटी सीटें
विवि ने पहले संबद्ध कॉलेजों के साथ ही कुछ सरकारी अनुसंधान केंद्रों को मिलाकर पीएचडी के लिए 103 सीटें निर्धारित की थी। लेकिन कुछ कॉलेजों में उपलब्ध संसाधनों के जांच के दौरान शोध केंद्र के मानक पूरे नहीं करने पर उन्हें पीएचडी सीट का आवंटन रद्द कर दिया गया है। इसे आखिरी वक्त पर सीटें घट गई। अब पीएचडी की 84 सीटों पर प्रवेश के लिए परीक्षा का आयोजन होगा।

पीएचडी एंट्रेंस टेस्ट के लिए एडमिट कार्ड जारी कर दिए गए है। कैंडीडेट्स की सहायता के लिए हेल्प लाइन नंबर भी दिया गया है। परीक्षा की सभी तैयारियां कर ली गई है। परीक्षा के बाद जुलाई माह से पीएचडी का पहला सत्र शुरू हो जाएगा।
- डॉ. आरएस शर्मा, कुलपति, मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय्

abhishek dixit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned