राजशेखर महाकवि, समीक्षक होने के साथ ही आचार्य भी थे

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में राजशेखर समारोह और शोध संगोष्ठी

By: tarunendra chauhan

Published: 29 Mar 2019, 05:21 PM IST

जबलपुर. रानी दुर्गावती विवि के संस्कृत, पालि एवं प्राकृत विभाग के तत्वावधान में गुरुवार से तीन दिवसीय राजशेखर समारोह का शुभारंभ हुआ। विज्ञान भवन में आयोजित शोध संगोष्ठी सत्र का उद्घाटन विक्रम विवि उज्जैन के कुलपति प्रो. बालकृष्ण शर्मा ने बतौर मुख्य अतिथि की। अध्यक्षता रादुविवि के कुलपति प्रो. कपिल देव मिश्र ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में आयुध निर्माणी के उपमहाप्रबंधक काशीनाथ पांडे रहे। आयोजन कुलसचिव प्रो. कमलेश मिश्र, कालिदास संस्कृत अकादमी उज्जैन की प्रभारी निदेशक प्रतिभा दवे, संयोजक प्रो. राधिका प्रसाद मिश्र, संस्कृत विभाग के अध्यक्ष प्रो. कमलनयन शुक्ल की उपस्थिति में हुआ। मुख्य अतिथि प्रो. बालकृष्ण शर्मा ने कहा कि राजशेखर महाकवि भी हैं, समीक्षक भी हैं और आचार्य भी हैं। जो सभी भाषाओं और सभी प्रकार के काव्य रचने में चतुर होता है, वह कविराज होता है। राजशेखर सम्पूर्ण देश की संस्कृति के प्रतिनिधि हैं।

शुभारंभ से पूर्व एनएसएस स्वयंसेवकों ने ग्वारीघाट से कलश यात्रा निकाली। इस अवसर पर प्रो. एडीएन वाजपेयी, कालिदास अकादमी के सहायक निदेशक डॉ. संतोष पांड्या एवं महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विवि की डॉ. प्रज्ञा मिश्रा, प्रो. सीएसएस ठाकुर, प्रो. रहसबिहारी द्विवेदी, प्रो. पीके खरे समेत अन्य की मौजूदगी रही।

 

समारोह के अगले चरण में विवेचना रंगमंडल के कलाकारों ने आठवां सर्ग नाटक का मंचन किया। नाटक के लेखक सुरेंद्र वर्मा है, जिसका निर्देशन पूजा केवट ने किया। नाटक में दर्शाया गया कि कालिदास अब तक सात सर्ग लिख चुके हैं और आठवें सर्ग में वे शिव-पार्वती के प्रेम को दिखाते हैं। कालीदास का यह साहित्य लोगों तक पहुंचे इससे पहले इसे दरबार में सुनाया जाता है, जिस पर अश्लीलता के आरोप लगते हैं। इस आठवें सर्ग को लेकर उनकी पत्नी भी दरबार में नहीं जाती है, क्योंकि उसे लगता है कि इसमें कालीदास ने अपने विवाह के बाद का अनुभव परोसा है। दरबार में इस साहित्य को लेकर कालीदास का अपमान किया जाता है। इस तरह कहानी आगे बढ़ती है। नाटक में आयुषी शुक्ला, आकाश जैन, पूजा, नुपुर मेहता, शशांक सोनी, प्रकाश सिंह, सौरव यादव, कार्तिक रायजादा ने अभिनय किया।

tarunendra chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned