raksha bandhan 2018 calendar - रक्षाबंधन के पहले इस बार पड़ रहे अनेक तीज-त्यौहार, जानिए इनका महत्व

रक्षाबंधन

By: deepak deewan

Published: 24 Jul 2018, 02:45 PM IST

जबलपुर. सावन माह की तैयारियां शुरु हो गई हैं। इस माह का सनातन संस्कृति में विशेष महत्ता है। सावन के महीने भर जहां भगवान शिव की पूजा की जाती है वहीं सावन पूर्णिमा को भाई-बहन के प्रेम का सबसे बड़ा पर्व रक्षाबंधन मनाया जाता है। इस बार 16 अगस्त को रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाएगा। इससे पहले माह भर अनेक तीज-त्यौहार पड़ रहे हैं। सावन का प्रथम सोमवार 30 जुलाई, द्वितीय सोमवार छह अगस्त, तीसरा सोमवार 13 अगस्त और चौथा सोमवार 20 अगस्त को होगा।

30 को पहला सोमवार
महादेव की साधना के विशेष माह सावन में जलाभिषेक के लिए भक्तों ने तैयारी कर ली है। इस बार सावन में चार सोमवार पड़ेगे। प्रत्येक सोमवार को व्रत, रूद्राभिषेक, पूजन के साथ कांवड़ यात्राएं निकाली जाएगी। प्रमुख शिव मंदिरों में भोलेनाथ के विशेष श्रृंगार एवं भक्तों के अभिषेक करने की सुविधाएं बनाई जा रही है।


साधना के एक माह जलाभिषेक करेंगे भक्त
ज्योतिर्विद जनार्दन शुक्ला के अनुसार सावन माह की उपासना से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। सावन माह में श्रद्धालु सोलह सोमवार के व्रत की शुस्आत करते हैं। गुप्तेश्वर महादेव मंदिर में प्रत्येक दिन भगवान का विशेष श्रृंगार किया जाएगा।

रूद्राभिषेक की तैयारियां

गैबीनाथ महादेव मंदिर, पाट बाबा शिव मंदिर, कचनार सिटी शिव मंदिर विजयनगर, पशुपति नाथ मंदिर लम्हेटाघाट एवं कांच मंदिर जिलहरी घाट में रूद्राभिषेक की तैयारियां की जा रही है। कांवड यात्रा निकालने वाली समितियों ने कांवडिय़ों का पंजीयन किया है।


रक्षाबंधन के पहले पूरे महीने धार्मिक माहौल
इस बार 16 अगस्त को रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाएगा। इससे पहले माह भर अनेक तीज-त्यौहार पड़ रहे हैं। सावन का प्रथम सोमवार 30 जुलाई, द्वितीय सोमवार छह अगस्त, तीसरा सोमवार 13 अगस्त और चौथा सोमवार 20 अगस्त को होगा। इसी के साथ सावन में व्रत-पर्व अधिक होने से धार्मिक माहौल रहेगा। 11 अगस्त को हरियाली अमावस्या,13 अगस्त दूसरे सोमवार को हरियाली तीज व्रत, 15 अगस्त को नागपंचमी का पर्व मनाया जाएगा।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned