नैक की तर्ज पर अब सेंट्रल स्कूलों की भी होगी रैकिंग, नए सत्र से होगी शुरुआत

deepankar roy

Publish: Dec, 08 2017 09:52:09 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
नैक की तर्ज पर अब सेंट्रल स्कूलों की भी होगी रैकिंग, नए सत्र से होगी शुरुआत

स्कूलों में एकेडमिक सिस्टम, कल्चरल एक्टिविटी और इंफ्रास्टक्चर पर सबसे ज्यादा पॉइंट्स

 

 

जबलपुर। शिक्षा के स्तर में सुधार के लिए हायर एजुकेशन लेवल पर ग्रेडिंग सिस्टम दिया जाता है, ताकि ग्रेडिंग सिस्टम के आधार पर स्टूडेंट्स शैक्षणिक संस्थानों में दाखिला ले सकें। अब यह प्रक्रिया केन्द्रीय विद्यालयों में भी की जाएगी, जिसकी शुरुआत नए सत्र से होगी। नैक की तर्ज पर ही यह रैकिंग होने जा रही है। एेसा पहली बार होगा, जब गवर्नमेंट द्वारा देश में केन्द्रीय विद्यालयों को ग्रेडिंग सिस्टम के अंतर्गत रखा जाएगा। इसके लिए देशभर के केन्द्रीय को शामिल किया जाएगा।

एडमिशन लेने में आसानी
रैकिंग की नई व्यवस्था के तहत अलग-अलग मानकों के आधार पर बेस्ट स्कूलों को चुना जाएगा। इसके लिए चार कैटेगरी निर्धारित की गई हैं, जिसमें स्कूलों में एकेडमिक सिस्टम, कल्चरल एक्टिविटी और इंफ्रास्टक्चर पर सबसे ज्यादा पॉइंट्स दिए जाएंगे। शहर में कुछ 9 केन्द्रीय विद्यालय मौजूद हैं, जहां अभी बेस्ट ग्रेड लाने की कवायद भी शुरू हो चुकी है। इसका फायदा उन पैरेंट्स को भी मिलेगा, जो ग्रेडिंग के आधार पर बच्चों का एडमिशन करवाते हैं।

शहर में शुरू हुई कवायद
केन्द्रीय विद्यालय नम्बर 1 जीसीएफ के प्रिंसिपल एएस ठाकुर ने बताया कि एमएचआरडी द्वारा देशभर के विभिन्न केन्द्रीय विद्यालयों का मूल्यांकन किया जाएगा। इसके साथ ग्रेड भी प्राप्त होगा। शहर के सभी केन्द्रीय विद्यालयों में नए के हिसाब से अभी से तैयारी शुरू हो चुकी हैं। इसमें स्कूल इंफ्रास्टक्चर से लेकर एकेडमिक्स एबिलिटी पर फोकस किया जा रहा है। हर योग्यता को बेहतर ढंग से निखारा जाएगा, ताकि अच्छा ग्रेड मिले।

दो बार होगा निरीक्षण
एमएचआरडी द्वारा इस पहल को किया जा रहा है। जिसमें देशभर के केन्द्रीय विद्यालयों में शिक्षा के मानक स्तर को सुधारने के लिए काम किया जाएगा। इसमें सरकार द्वारा निर्धारित किए गए पर्यवेक्षकों द्वारा साल में दो बार विजिट करवाई जाएगी। विभिन्न मानक स्तरों के लिए अधिकतम 800 से लेकर १ हजार अंक तक निर्धारित किए हैं। पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट और स्कूल की सुविधाओं के आधार पर ही स्कूलों को ग्रेड मिलेगा।

ये पैरामीटर्स हुए हैं निर्धारित
एकेडमिक परफॉर्मेंस
इंफ्रास्ट्रक्चर
एडमिनिस्ट्रेशन
फाइनेंस
कम्यूनिटी पार्टिसिपेशन
ग्रेस पाइंट

इन पॉइंट्स का होगा मूल्यांकन
एकेडमिक्स- 500
एडमिनिस्ट्रेशन- 120
इन्फ्रास्ट्रक्चर- 150
फाइनेंस- 70
कम्यूनिटी पार्टिसिपेशन- 60
ग्रेस पॉइंट- 90
निरीक्षण- 10

चार कैटेगरी में बंटेंगे स्कूल
80 अंक वाले स्कूल ए (एक्सीलेंट) कैटेगरी
79-60 अंक वाले बी (बहुत अच्छे) कैटेगरी
59-40 अंक वाले सी (गुड) कैटेगरी
40 अंक से कम वाले डी (कमजोर) कैटेगरी

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned