scriptSatpula Bridge: Fear of accident owing to 60-degree gradient. | चौड़ी सड़क, संकरा पुल: सतपुला ब्रिज की घुमावदार सड़क पर 60 डिग्री की ढाल से दुर्घटना का डर | Patrika News

चौड़ी सड़क, संकरा पुल: सतपुला ब्रिज की घुमावदार सड़क पर 60 डिग्री की ढाल से दुर्घटना का डर

locationजबलपुरPublished: Jan 27, 2024 04:46:52 pm

Submitted by:

Lalit kostha

चौड़ी सड़क, संकरा पुल: सतपुला ब्रिज की घुमावदार सड़क पर 60 डिग्री की ढाल से दुर्घटना का डर

 

Satpula Bridge
Satpula Bridge

जबलपुर। शहर को रांझी से जोड़ने वाले सतपुला ब्रिज के दोनों ओर दुर्घटना प्वाइंट बन गए हैं। पुल के दोनों ओर घुमावदार सड़क और 60 डिग्री की ढाल होने की वजह से लोगों के वाहन असंतुलित हो रहे हैं। चौड़ी सड़क पर संकरे पुल की वजह से यहां यातायात की रफ्तार टूट रही है। इस पुल के रखरखाव या निगरानी के कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।

सतपुला ब्रिज पर ट्रैफिक अराजक हो गया है। ब्रिज टॉप की उंचाई अधिक होने की वजह से इसके दोनों ओर की सड़क ढालदार हैं। इसकी वजह से वाहन के उतरने के दौरान रफ्तार रहती है। दूसरा यहां दोनों ओर घुमावदार सड़क होने से वाहनों के असंतुलित होने की आशंका बनी रहती है। जानकार कहते हैं कि यहां कई बार वाहन फिसल गए हैं तो वहीं सामने से आने वाले वाहनों से सीधी टक्कर भी हो गई है।

ये है हकीकत

सतपुला ब्रिज की उंचाई अधिक होने से उसे पार करने वाले वाहन चालक रफ्तार से उपर की ओर जाते हैं। उधर, पुल से नीचे आने वाले वाहनों की रफ्तार स्वत: बढ़ जाती है। इसमें घमापुर की ओर पुल से बाईं ओर घुमावदा सड़क हैं। इसमें अतिकमणकारी काबिज रहते हैं, जिससे सामने से आने वाले वाहन दूर से स्पष्ट नहीं दिखाई देते हैं। पुल के रांझी की ओर ब्रिज से मात्र 50 फीट पर ढाल पर छोटी सी रोटरी बनाई गई है। इसमें एक रास्ता रांझी और दूसरा जीसीएफ की ओर जा रहा है। इसमें फैक्ट्री और रांझी की ओर से आने वाले वाहन और पुल से नीचे आने वाले वाहन ढाल पर फंस रहे हैं।

ये हो चुके हैं हादसे

शनिवार को रांझी की ओर ब्रिज से उतरते समय स्कूटर फिसल गई, जो सामने से आ रही कार से टकरा गई थी। दुर्घटना में कोई हताहत नहीं हुआ।

सोमवार की शाम रांझी की ओर से ब्रिज की ओर जा रही बाइक सामने कार के ब्रेक लगते रुक गई थी। मौके पर वाहन असंतुलित होकर बहकने लगा था।

सोमवार को ही घमापुर के घुमावदार सड़क पर एक कार सामने से आ रही कार से टकराते बची। इस दौरान ई-रिक्शा चालक को बचाने की कोशिश की थी।

(नोट- यह जानकारी क्षेत्रीय लोगों ने पत्रिका को दी है।)

ब्रिज पुराना है। भौगोलिक स्थिति के अनुसार तकनीकी रूप से सुधार की जरूरत है। नगर प्रशासन-रेलवे ही इस मामले में कोई फैसला ले सकती है।

प्रदीप शेंडे, एएसपी (यातायात)

ट्रेंडिंग वीडियो