scriptSchools backward in scientific innovation in MP | मप्र में वैज्ञानिक नवाचार में पिछड़े स्कूल, सम्भाग से आए महज 1206 आइडिया | Patrika News

मप्र में वैज्ञानिक नवाचार में पिछड़े स्कूल, सम्भाग से आए महज 1206 आइडिया

मप्र में वैज्ञानिक नवाचार में पिछड़े स्कूल, सम्भाग से आए महज 1206 आइडिया

 

जबलपुर

Published: September 12, 2022 10:56:52 am

जबलपुर. प्रदेश शासन और स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से प्रौद्योगिकी विभाग के माध्यम से वैज्ञानिक नवाचारों को बढ़ावा देने और छात्रों को राष्ट्रीय मंच पर लाने के लिए इंस्पायर अवार्ड योजना का संचालन किया जा रहा है। लेकिन, इस ओर स्कूलों और शिक्षकों का रुझान बेहद कम है। जुलाई माह में शुरू हुई इस योजना के तहत जबलपुर सम्भाग के चार जिलों में कोई काम नहीं हुआ है। इस योजना में 6वीं से 10वीं कक्षा तक के विद्यार्थी ही सहभागिता कर सकते हैं। हाल ही में जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार महज 10 फीसदी स्कूलों ने ही इसमें रुचि ली है। प्रदेश में करीब सवा लाख स्कूलों में से केवल 26 हजार छात्रों ने नवाचार आइडिया अपलोड किए हैं।

mp_school.png
scientific innovation in MP

इंस्पायर अवॉर्ड योजना : प्रदेशभर में 70 हजार से अधिक स्कूल योजना के तहत पंजीकृत

जबलपुर सम्भाग से 1206 आइडिया: जानकारों के अनुसार जबलपुर सम्भाग से केवल 1206 वैज्ञानिक आइडिया अपलोड किए गए हैं। इनमें से जबलपुर जिले के 650 स्कूलों की ओर से 682 आइडिया अपलोड किए गए हैं। कटनी, बालाघाट और डिंडोरी जिले में 50 आइडिया भी दर्ज नहीं हो सके हैं। प्रदेश के सभी जिलों से 7741 आइडिया भेजे गए हैं।

Big Breaking : Changes regarding school fees latest order

प्रदेश की स्थिति

77,638 शासकीय विद्यालय हैं प्रदेश में
3,88,190 आइडिया का था लक्ष्य
26000 विद्यार्थियों ने भेजे आइडिया

आने थे तीन लाख आइडिया: जानकारों के अनुसार जिले में विद्यालयों की संख्या के मान से प्रत्येक विद्यालय से कम से कम 5 आइडिया पर काम होना था। इस लिहाज से प्रदेशभर से 3 लाख से अधिक आइडिया भेजे जाने थे। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। इसका एक कारण विभाग के अधिकारियों की ओर से स्कूलों और बच्चों को जागरूक नहीं करने को माना जा रहा है। आयुक्त स्कूल शिक्षा ने योजना को गम्भीरता से नहीं लेने पर जिला शिक्षा अधिकारी, जिला नोडल अधिकारी इंस्पायर अवॉड योजना प्रभारी, एडीपीसी, जिला विज्ञान अधिकारी पर नाराजगी दर्ज की है। उन्होंने योजना की समीक्षा कर 30 सितंबर तक काम करने के निर्देश दिए हैं।

इंस्पायर अवॉर्ड योजना छात्रों की प्रतिभाओं को सामने लाने का राष्ट्रीय मंच है। इसमें रुचि न लेना चिंताजनक है। इस सम्बंध में डीइओ और योजना प्रभारी को कार्रवाई करने के निर्देश दिए जा रहे हैं।
- डॉ. आरके स्वर्णकार, संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

CM गहलोत को लेकर आलाकमान से बातचीत का सचिन पायलट ने किया खंडनजब सीएम योगी आदित्यनाथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के बीच ही 'DIG' पर भड़क उठेगुजरात दौरे पर जाएंगे पीएम मोदी, अहमदाबाद में शुरू हो चुकी है तैयारियांविदेशमंत्री जयशंकर को जवाब: भारत और पाकिस्तान दोनों को साझेदार देश बताते हुए अमरीका ने पाक को बाढ़ राहत में दिए 100 लाख डॉलरदिल्ली में AAP को बड़ा झटका, कोर्ट ने LG के खिलाफ पोस्ट हटाने का दिया निर्देशराजस्थान संकट के बीच दिग्विजय सिंह लड़ सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव, इन नामों पर भी चल रही चर्चाAssam: चीन सीमा के पास महिला पायलटों ने दिखाया दम, उड़ाए SU-30 लड़ाकू विमानWeather Update: लौटता हुआ मानसून फिर हुआ सक्रिय, आज 12 राज्यों में होगी बारिश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.