मेडिकल कॉलेज में आपस में भिड़े सिक्योरिटी गार्ड, उपद्रव से मरीज और परिजन परेशान

मेडिकल कॉलेज में आपस में भिड़े सिक्योरिटी गार्ड, उपद्रव से मरीज और परिजन परेशान
viral video,viral videos,medical college jabalpur,

Abhishek Dixit | Publish: May, 24 2019 08:42:12 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मेडिकल कॉलेज के मानसिक चिकित्सा विभाग का मामला : शिकायत पर पहुंचा सुपरवाइजर भी था नशे में धुत

जबलपुर. नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज की सुरक्षा के लिए तैनात निजी सुरक्षा एजेंसी के कर्मचारी रात होते ही बेकाबू हो जाते हैं। दिन में निजी एजेंसी के सुरक्षा कर्मियों की मरीजों और परिजनों से विवाद की शिकायतें आम हैं। रात में ये पहरेदार नशे में धुत होकर उपद्रव कर रहे हैं। ताजा मामला मानसिक चिकित्सा विभाग का है। यहां 22 मई की रात दो सिक्योरिटी गार्ड आपस में भिड़ गए। अपशब्दों की बौछार के बीच गाड्र्स ने मरीजों के परिजन से अभद्रता की। शिकायत गाडर््स की खबर लेने पहुंचा सिक्योरिटी सुपरवाइजर भी नशे में धुत था। उसने भी विभाग में पहुंचने के बाद आपा खो दिया। शाम को प्रमुख अधिकारियों के जाने के बाद सुरक्षा व्यवस्था में चूक से मरीज, परिजन और स्टाफ भी परेशान है।

Read Also : मेडिकल अस्पताल में जूनियर डॉक्टर ने युवक को पीटा, मरीज की मां और पिता को बनाया बंधक

एचओडी ने लिखा पत्र
कॉलेज परिसर में प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसी के कर्मचारियों की करतूत मानसिक विभाग के प्रमुख के शिकायती पत्र से सामने आई। 22 मई की रात सिक्योरिटी गार्ड और सुपरवाइजर की हरकतों को लेकर कॉलेज के सुरक्षा प्रभारी को पत्र भेजा गया है। मरीज और उनके परिजनों की ओर से अभद्रता की शिकायत पर सम्बंधित सिक्योरिटी गार्ड और सुपरवाइजर पर कठोर कार्रवाई के लिए कहा गया है।

Read Also : बच्चों के लिए मोबाइल, टेलीविजन और अधिक उम्र के बच्चों की दोस्ती घातक

मामला रफादफा करने की कोशिश
सिक्योरिटी गाड्र्स की करतूत सामने आते ही उस पर परदा डालने की कोशिश शुरू हो गई है। बताया गया कि विभाग में उपद्रव की सूचना एसओ सिराज अली और सुपरवाइजर व्यंकटेश को दी गई। ये दोनों निजी सुरक्षा एजेंसी का कॉलेज में कार्यभार संभालने वाले प्रमुख के नजदीकी है। इसके चलते मामले को रफादफा करने की तैयारी है। डीन डॉ. नवनीत सक्सेना के अनुसार घटना की जानकारी लेकर उचित कार्रवाई की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned