sensational murder case: कलेक्ट्रेट कर्मी के बेटे को गोली मारी, ऐसे गिरफ्त में आए शूटर

sensational murder case: कलेक्ट्रेट कर्मी के बेटे को गोली मारी, ऐसे गिरफ्त में आए शूटर

Premshankar Tiwari | Publish: Feb, 15 2018 09:11:46 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

घर के बाहर टहल रहे युवक पर की थी फायरिंग, गंगा नगर में हुई थी सनसनीखेज वारदात

जबलपुर। संजीवनी नगर के गंगा नगर इलाके में कलेक्ट्रेट कर्मी के बेटे को गोली मारकर मौत के घाट उतारने वाले आरोपितों को पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। उनकी निशानदेही पर वारदात में उपयोग किया गया वाहन और हथियार भी जब्त कर लिया। पूछताछ में यह बात सामने आयी है कि प्रॉपर्टी के विवाद के चलते आरोपितों ने कलेक्ट्रेट कर्मी के बेटे को गोली मारकर मौत के घाट उतारा था। आरोपितों का नाम हेमेन्द्र ठाकुर व उत्कर्ष दुबे बताया गया है। दोनों आरोपितों को योजनाबद्ध तरीके से घेराबंदी करके पकड़ा गया। वे पिछले दस दिन से फरार थे।

यह है मामला
पुलिस के अनुसार गंगानगर निवासी रामकृष्ण खरे कलेक्ट्रेट में कार्यरत हैं। उनका बेटा सौरभ खरे (३२) अपने छोटे भाई राजू उर्फ शुभम खरे के साथ बिल्डिंग मटेरियल सप्लाई का काम करता था। ०४ फरवरी रविवार रात लगभग साढ़े १२ बजे सौरभ व राजू घर के बाहर टहल रहे थे, तभी स्कूटी पर सवार हेमेन्द्र ठाकुर उर्फ हेमू वहां पहुंचा। हेमेन्द्र ने गाड़ी रोकी और सौरभ से बात करने लगा। उसी समय उत्कर्ष दुबे भी वहांं पहुंच गया। प्रॉपर्टी के विवाद को लेकर कहा-सुनी शुरू हो गई।

गर्दन पर मारी गोली
पुलिस के अनुसार पहले तो हेमू और उत्कर्ष ने सौरभ के साथ गाली गलौज व मारपीट की। बाद में हेमू ने पिस्टल निकाली और सौरभ की गर्दन पर अड़ा दी। सौरभ कुछ समझ पाता इसके पहले हेमू ने उस पर गोली दाग दी। भाई राजू बचाव के लिए सौरभ की तरफ दौड़ा। इस बीच हेमू व उत्कर्ष फरार हो गए। गोली लगने के कारण खून से लथपथ सौरभ बेहोश हो गया। परिजनों ने उसे अस्पताल ले जाने की तैयारी की। परिजन सौरभ को अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

क्षेत्र में आक्रोश
घटना के बाद क्षेत्र में आक्रोश फैल गया। इस मामले में लोगों ने थाने में धरना प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शनकर्ताओं का आरोप था कि पुलिस की निष्क्रियता की वजह से इस तरह की वारदातें बढ़ रही हैं। प्रदर्शनकर्ताओं की मांग थी कि आरोपितों को शीघ्र गिरफ्तार किया जाए।

दस दिन से थे फरार
संजीवनी नगर थाना प्रभारी संजय भलावी ने बताया कि वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपित शहर छोड़कर भाग गए थे। पुलिस को गुरुवार को सूचना मिली कि दोनों आरोपित शहर आए हैं। यह पता चलते ही पुलिस ने घेराबंदी की और योजनाबद्ध तरीके से दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों से वारदात में प्रयुक्त पिस्टल भी जब्त कर ली गई है।

Ad Block is Banned