scriptshiv Aaradhna in Jabalpur | गौरीशंकर प्रतिमा के साथ हैं द्वादश ज्योतिर्लिंग | Patrika News

गौरीशंकर प्रतिमा के साथ हैं द्वादश ज्योतिर्लिंग

अद्भुत वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है कल्चुरीकालीन पंचमठा मंदिर

जबलपुर

Updated: July 24, 2022 06:21:24 pm

जबलपुर। संस्कारधानी में शिव उपासना के प्रति श्रद्धा का इतिहास सदियों पुराना है। यहां के शिवालय ऐतिहासिक और अद्भुत वास्तुकला का अनुपम उदाहरण हैं। ऐसा ही एक शिवालय बीटी तिराहा, गढ़ा स्थित पचमठा मंदिर है। कल्चुरिकालीन स्थापत्य के साक्ष्य इस शिवालय में गौरीशंकर-पार्वती की प्राचीन व आकर्षक प्रतिमा के साथ द्वादश ज्योतिर्लिंग भी विराजमान हैं। सावन में यहां शिवपुराण व रुद्राभिषेक के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ती है।
होती है पंचदेव उपासना- पचमठा मंदिर के महंत कामताशरण ने बताया कि मंदिर परिसर में वेदोक्त पंचदेव उपासना पद्धति से उपासना की पूरी व्यवस्था है। इस पद्धति में शिव, विष्णु, अन्नपूर्णा, शारदा व नर्मदा माता का पूजन किया जाता है। मंदिर परिसर में ही इन सभी देवी-देवताओं के विग्रह विराजमान हैं। महंत ने बताया कि मंदिर परिसर में द्वादश ज्योतिर्लिंग आकर्षक तरी$के से विराजमान हैं। साथ ही गर्भगृह में गौरीशंकर-पार्वती की ऐतिहासिक प्रतिमा है। इस तरह यहां निराकार (ज्योतिर्लिंग) व साकार (शिव प्रतिमा) दोनों स्वरूप में शिव विराजमान हैं।
मौजूद है शिलालेख- मंदिर परिसर में कल्चुरीकालीन शिलालेख है। इससे स्पष्ट होता है कि मंदिर की कुछ प्रतिमाएं 15-16 वीं शताब्दी की हैं। शिवालय के अलावा परिसर के सभी मंदिरों का वास्तुशिल्प अद्भुत है। इन मंदिरों में कोई भी टूटफूट नहीं हुई है।

अद्भुत वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है कल्चुरीकालीन पंचमठा मंदिर
अद्भुत वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है कल्चुरीकालीन पंचमठा मंदिर

शाही सवारी
गुप्तेश्वर महादेव की शाही सवारी सोमवार सुबह 10 बजे नगर भ्रमण के लिए निकलेगी। यह जानकारी गुप्तेश्वर पीठाधीश्वर स्वामी मुकुंददास ने एक होटल में आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान दी। पत्रकार वार्ता में पंकज पांडेय, द्वारका मिश्रा, राजेश तिवारी, बसंत मिश्रा, ऋषभ मिश्रा, उत्कर्ष रावत उपस्थित थे।
गैबीनाथ मंदिर- श्री गैबीनाथ मंदिर सेवा समिति पुरवा गढ़ा जबलपुर की ओर से सोमवार प्रात: 3.30 बजे पूजन अर्चन के बाद रूद्राभिषेक भस्मी श्रंगार किया जाएगा। सुबह छह बजे सभी कांवडिए मंदिर में एकत्रित होकर तिलवारा घाट पहुंचेंगे। कांवड यात्रा तिलवारा घाट से बरगी हिल्स, पुरवा से भ्रमण करते हुए श्री गैबीनाथ मंदिर पहुंच कर
सम्पन्न होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंस्वतंत्रता दिवस के मौके पर लेह पहुंचे मनोज तिवारी और निरहुआ, जवानों को परोसा खाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.