MP के इस शहर में कोरोना से जंग को जरूरी इंजेक्शऩ की कमी

-नर्सिंग होम एसोसिएशन ने सीएम को लिखा पत्र

By: Ajay Chaturvedi

Published: 08 Apr 2021, 11:40 AM IST

जबलपुर. कोरोना संक्रमण की रफ्तार जैसे-जैसे तेज होती जा रही है, इससे लड़ने के लिए जरूरी दवाओ और इंजेक्शन की कमी महसूस की जाने लगी है। इस संबंध में बताया जा रहा है कि शहर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की शार्टेज हो गई। वैसे कहा तो यह भी जा रहा है कि यह हाल केवल जबलपुर में ही नहीं है बल्कि प्रदेश के अन्य शहरो में भी रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत हो गई है। ऐसे में जहां स्थानी प्रशासन, स्वास्थ्य महकमा अपने स्तर से डिमाड पूरी करने में जुटा है, वहां नरसिंगहोम एसोसिएशऩ ने सीएम शिवराज चौहान को पत्र भेज कर इंजेक्शन के पर्याप्त डोज उपलब्ध कराने की मांग की है।

डॉक्टर्स का कहना है कि रेमडेसिविर एक लाइफ सेविंग इजेक्शन है। विक्टोरिया हॉस्पिटल में कोरोना वार्ड में मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर बताते हैं कि कोरोना के वे मरीज जिनमें लंग्स इंफेक्शन बढ़ता है, उन्हें यह लगाना बेहद जरूरी है। हालांकि कुछ मरीजों में इसके साइड इफैक्ट्स भी नजर आते हैं, लेकिन वो घबराने जैसी बात नहीं होती।

उधर मांग और आपूर्ति में सामंजस्य बिठाने और निजी अस्पतालों की डिमांड पर नजर रखने के लिए पटवारियों को लगाया है, ताकि जितनी जरूरत हो, उतने ही डोज दिए जाएं। इंजेक्शन की सप्लाई और डिमांड पर मॉनीटरिंग के लिए नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं। हालांकि इसके बाद भी इंजेक्शन की डिमांड और सप्लाई पर नियंत्रण उतना प्रभावशाली नहीं नजर आ रहा है।

बताया जा रहा है कि जहां से इस इंजेक्शन की सप्लाई हो रही थी, अभी फिलहाल बंद है। हमारे पास जो स्टॉक था, उसे अस्पतालों में उपलब्ध करा दिया गया है। कमी सभी शहरों में है। हमने डिमांड भेजी है, जल्द ही नए डोज आ सकते हैं।-आशीष पांडेय, अपर कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी

इस बीच कोरोना के तेज होते मामलों के मद्देनजर मनमोहन नगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए तैयार कर दिया गया है। स्टाफ एवं चिकित्सकों की नियुक्ति की जा रही है।-सीएमएचओ डॉ. रत्नेश कुरारिया

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned