सिहोरा कृषि उपज मंडी में चार दिन से अनाज खरीदी बंद

व्यापारी बोले बैंकों से दूसरे दिन मिल रहा यूटीआर नंबर, कैसे करें खरीद

By: sudarshan ahirwa

Published: 05 Sep 2019, 09:39 PM IST

जबलपुर. सिहोरा. इ-अनुज्ञा में आ रही परेशानियों का विरोध करते हुए व्यापारियों ने मंडी की नीलामी बोली में शामिल होने से इनकार कर दिया, इससे सिहोरा कृषि मंडी में पिछले चार दिन से अनाज की खरीदी बंद है। अब किसानों का अनाज नहीं खरीदा जा रहा है। व्यापारियों को अपना खरीदा हुआ माल मंडी से बाहर ले जाने के लिए शासन ने एक सितंबर से ई-अनुज्ञा लागू कर दी है।

व्यापारियों का कहना है कि इस इ-अनुज्ञा में एक-एक किसान का यूटीआर नंबर मांगा जा रहा है और इसके बाद ही उन्हें गेट पास मिल पा रहे हैं। खरीदे गए अनाज का आरटीजीएस और एनईएफटी से भुगतान करने पर दो-दो दिन में यूटीआर नंबर मिल पा रहा है और जब तक किसानों को हुए भुगतान का यूटीआर नंबर दर्ज नहीं होता, तब तक गेट पास नहीं मिलेगा और व्यापारियों का अनाज मंडी से बाहर नहीं निकल पाएगा। एक अनुमान के मुताबिक पिछले चार दिनों से मंडी में अनाज का क्रय-विक्रय ठप होने से चार लाख से अधिक के राजस्व नुकसान का अनुमान है।

ज्यादा एनईएफटी पर आनाकानी कर रहे बैंक
व्यापारियों का कहना है कि भुगतान के लिए आरटीजीएस और एनईएफटी करने में बैंकों द्वारा आनाकानी की जा रही है। 40-50 से अधिक एनईएफटी पर मना किया जा रहा है। साथ ही भुगतान के प्रत्येक यूटीआर नंबर को मंडी द्वारा वेरीफाई किया जाता है, इससे गेट पास न मिल पाने से माल बाहर नहीं भेज पा रहे हैं। आरटीजीएस से जब तक किसानों के पास पैसा नहीं पहुंच जाता, तब तक यूटीआर नंबर नहीं मिल रहा है। इससे हमारे गेटपास नहीं बन पा रहे हैं। हमारी मांग की है कि गेट पास के लिए यूटीआर नंबर की आवश्यकता समाप्त की जाए।

आरटीजीएस व एनईएफटी से भुगतान होने पर व्यापारी इ-अनुज्ञा पर समस्या बता रहे हैं। व्यापारियों ने लिखित में कुछ समस्याएं दी हैं और निराकरण होने तक नीलामी में शामिल न होने की बात कही है।
अशोक दुबे, सचिव, कृषि उपज मंडी, सिहोरा

sudarshan ahirwa
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned