सिंहस्थ 2016 -  माता पार्वती ने स्वयं लगाया था इस वृक्ष को, बेताल यहीं रहता था

 सिंहस्थ 2016 -  माता पार्वती ने स्वयं लगाया था इस वृक्ष को, बेताल यहीं रहता था

Lali Kosta | Publish: Apr, 16 2016 11:02:00 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

देश-विदेश के श्रद्धालुओं द्वारा की जाती है मनोकामनापूर्ति के लिए पूजा, सिद्धवट वृक्ष के नाम से है प्रसिद्ध

जबलपुर। शिप्रा नदी के तट पर बसी महाकाल की उज्जैयिनी नगरी में इन दिनों साधु संतों का जमावड़ा लगा हुआ है। सिंहस्थ्य 2016 में शामिल होकर  पुण्य कमाने की दृष्टि से यहां लाखों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। उज्जैन केवल सिंहस्थ्य या महाकाल के लिए बस नहीं जाना जाता है। बल्कि यहां और भी ऐसी चीजें मौजूद हैं जो लोगों की आस्था व विश्वास का प्रतीक हैं।  एक ऐसे ही आस्था के प्रतीक का नाम सिद्धवट वृक्ष है। जिसे स्वयं माता पार्वती द्वारा लगाया गया था। इसके अलावा राजा विक्रमादित्य ने बेताल को इसी पेड़ पर सिद्ध किया था।

मुगलों ने लोहे तवों से जड़वा दिया 
शिप्रा नदी के तट पर स्थित विश्व प्रसिद्ध सिद्धवट उज्जैन की धार्मिक विविधता को प्रमाणित करता है। यह प्रसिद्ध स्थान एक दिव्य चमत्कारिक वट वृक्ष है। जिस प्रकार प्रयाग इलाहबाद में अक्षयवट, गया बिहार में बौद्धवट तथा मथुरा वृन्दावन में बंशीवट है, उज्जैन में सिद्धवट है। ऐतिहासिक वर्णन के अनुसार इस अति प्राचीन वट वृक्ष को मुगल काल में कटवा कर सात लोहे के तवों से जड़वा दिया गया था लेकिन यह दिव्य वृक्ष उन लोहे के तत्वों को तोड़कर फिर से हरा भरा हो गया।

simhastha 2016 - Mata Parvati himself imposed the tree" alt="simhastha 2016 - Mata Parvati himself imposed the " align="center" margin-left="10" margin-right="10">

स्कंद पुराण में उल्लेख
स्कन्द पुराण के अवन्ति खंड अनुसार इस वट वृक्ष का रोपण स्वयं माता पार्वती ने अपने हाथों से किया था। मां पार्वती ने अपने पुत्र कार्तिकेय को यहां पूजन भी करवाया था। देवों और असुरों की लड़ाई के पूर्व इसी स्थान पर देवताओं ने शिवपुत्र कार्तिकेय का सेनापति पद पर अभिषेक किया था। इसके  बाद कार्तिक स्वामी ने तारकासुर राक्षस का वध किया। वध के बाद कार्तिकेय ने जिस शक्ति से तारकासुर का वध किया था, वह शिप्रा नदी के इसी घाट में समाहित हो गई थी। यहीं कारण है कि इस तीर्थ का नाम शक्तिभेद पड़ गया। यह वटवृक्ष कल्पवृक्ष है। संपत्ति अर्थात भौतिक व लौकिक सुख-सुविधाओं की कामना के लिए वट वृक्ष पर रक्षा सूत्र बांधा जाता है। उज्जैन में लगने वाला कार्तिक मेला इसी तीर्थ से जाना जाता है।

विक्रमादित्य ने बेताल वश में किया
अतिप्राचीन सिद्धवट का वर्णन लगभग 5500 साल पुराने स्कन्द पुराण में मिलता है, उसी से इस मंदिर की अतिप्रचीनता का पता चलता है। ऐतिहासिक वर्णन अनुसार सम्राट विक्रमादित्य ने इसी वट वृक्ष के नीचे घोर तपस्या कर बेताल को वश में करने की सिद्धि प्राप्त की थी। साथ ही भारत सम्राट अशोक के पुत्र महेंद्र और पुत्री संघमित्रा ने श्रीलंका आदि सुदूर देशों में धर्म प्रचार की यात्राएं करने से इसी वट वृक्ष का पूजन अर्चन किया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned