scriptsmart city: Smart city works incomplete, Will it take shape by 2023? | smart city: आधे-अधूरे का नाम स्मार्ट सिटी! क्या 2023 तक कोई स्वरूप ले पायेगी? | Patrika News

smart city: आधे-अधूरे का नाम स्मार्ट सिटी! क्या 2023 तक कोई स्वरूप ले पायेगी?

smart city: - स्मार्ट सिटी में 'लॉकडाउन' का बहाना, मुश्किल हुआ तय समय में मूर्त रूप लेना
- इंदौर-भोपाल को छोडकऱ अन्य शहरों के कई प्रोजेक्ट नहीं चढ़ सके परवान
- जबलपुर में बेढंगे कामों के चलते शहर की सूरत हो रही बदहाल

जबलपुर

Updated: February 17, 2022 12:05:13 am

smart city: जबलपुर. आम बजट में स्मार्ट सिटी के लिए सीधा प्रावधान नहीं होना और आखिरी समय सीमा जून 2023 को लेकर बहस छिड़ गई है। आखिर केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना समय रहते क्या मूर्त रूप ले सकेगी? योजना को मध्यप्रदेश में लागू हुए 5 साल हो गए। लेकिन इंदौर और भोपाल को छोडकऱ जबलपुर सहित बाकी स्मार्ट सिटी में दावों के अनुरूप काम नहीं हो सका। प्रदेश में अब भी 20 डीपीआर और सौ के करीब कार्य निविदा के इंतजार में हैं। हालांकि जिम्मेदारों का दावा है कि केंद्र से जारी फंड का अधिकांश हिस्सा उपयोग में लाया जा चुका है।
जबलपुर में एरिया बेस्ड डेवलपमेंट (एबीडी एरिया) को विकसित करने पर करोड़ों रुपए खर्च हो चुके हैं, पर ज्यादातर इलाका खुदाई और मलबे से पटा नजर आता है। धूल का गुबार और गड्ढों के बीच लोगों के लिए चलना मुश्किल हो गया है। जबलपुर में एबीडी एरिया में राइट टाउन, नेपियर टाउन, गोल बाजार और रानीताल का 750 एकड़ क्षेत्र शामिल है। स्मार्ट सिटी के तहत तक यहां 540 करोड़ के प्रोजेक्ट शुरू किए गए। इनमें कुछेक को छोडकऱ ज्यादातर अधूरे हैं। वहीं लगभग 50 करोड़ रुपए की राशि ही फिलहाल स्मार्ट सिटी के पास बची है। अधिकारियों को उम्मीद है कि 2023 के बाद अमृत योजना की तरह स्मार्ट सिटी का फेस-2 शुरू हो सकता है। साथ ही स्मार्ट सिटी सेल्फ सस्टेनेबल मोड पर भी काम कर सकती है।
Smart City:
Smart City:
भोपाल स्मार्ट सिटी-एबीडी एरिया का काम अब तक 70 फीसदी तक ही हुआ है। कुल साढ़े तीन हजार करोड़ रुपए के काम प्रस्तावित हैं, लेकिन इनमें से 2000 करोड़ रुपए तक के ही काम हो पाए हैं। एबीडी एरिया में लैंड मॉनेटाइजेशन कर दिया गया हैं। कंट्रोल कमांड सेंटर का काम सबसे पहले पूरा हुआ। उसके बाद प्लेसमेकिंग के काम हुए, लेकिन ये अधूरे हैं।
इंदौर स्मार्ट सिटी-तय समय सीमा में काम पूरे करने का रिकॉर्ड बनाया। देश में सबसे आगे स्मार्ट सिटी के रूप में पहचान रखने वाली इंदौर स्मार्ट सिटी कंपनी ने बीते पांच सालों में शहर में अलग-अलग 161 प्रोजेक्ट्स शुरू किए । इनमें से 127 प्रोजेक्ट्स को स्मार्ट सिटी कंपनी पूरा कर चुकी है।
ग्वालियर स्मार्ट सिटी-एडीबी एरिया में बीते पांच वर्षों में 21 प्रोजेक्ट में से 15 पूरे हुए हैं। गांधी मार्केट प्रोजेक्ट, सरकारी प्रेस बिल्डिंग और गोरखी आर्ट एंड क्राफ्ट अभी डीपीआर और निविदा प्रक्रिया में है। जून 2023 तक कुछ प्रोजेक्ट के पूरे होने की उम्मीद कम है।
उज्जैन स्मार्ट सिटी-योजना के दूसरे चरण में उज्जैन का चयन हुआ। अभी स्मार्ट रूप नहीं ले सका है। बीते वर्षों में कुछ प्रोजेक्ट्स पूरे हुए, कुछ चल रहे हैं। वहीं कुछ शुरू ही नहीं हो सके हैं। इस दौरान शहर विकास की प्राथमिकताएं बदलने से कुछ प्रोजेक्ट्स प्रस्ताव तक ही सीमित हैं।
जिमेदारों का लॉकडाउन बहाना
प्रोजेक्ट के अंतर्गत 2016 से 2018 के बीच प्रतिस्पर्धा के आधार पर देशभर के 100 स्मार्ट शहरों का चयन किया गया। इनके लिए अब तक केंद्र सरकार ने 28413 करोड़ रुपए जारी किए हैं। प्रोजेक्ट के जिमेदारों का दावा है कि इस राशि का 83 प्रतिशत यानी 23668 करोड़ रुपए उपयोग कर लिया गया है। जमीनी स्तर पर पिछड़ रहे कामों की हकीकत को लेकर उनका तर्क है कि कोरोना काल में लॉकडाउन के चलते स्मार्ट सिटी के काम में रुकावटें आईं। इसलिए इसकी अवधि 2023 तक बढ़ा दी गई है।
केंद्र से जारी राशि का इस्तेमाल (जनवरी-2022 की स्थिति)
शहर- जारी की राशि- उपयोग की गई
जबलपुर- 392 करोड़- 392 करोड़
भोपाल- 490 करोड़- 490 करोड़
इंदौर- 490 करोड़- 490 करोड़
ग्वालियर- 196 करोड़- 195 करोड़
सागर- 196 करोड़- 163 करोड़
सतना- 196 करोड़- 159 करोड़
उज्जैन- 400 करोड़- 2 करोड़
-----------------
स्मार्ट सिटी के कामों की स्थिति (जनवरी-2022 की स्थिति)
स्मार्ट सिटी, डीपीआर की स्थिति-राशि, निविदा की स्थिति-राशि, कार्यआदेश की स्थिति-राशि, कार्यपूर्णता की स्थिति-राशि, कुल परियोजना-राशि
जबलपुर, 01-80 करोड़, 09- 206 करोड़, 63-2613 करोड़, 55-517 करोड़, 128-3418 करोड़
भोपाल, 00-00 , 06-3478 करोड़, 24-760 करोड़, 68-2681 करोड़, 98-6919 करोड़
इंदौर, 00-00 , 22-446 करोड़, 31-3674 करोड़, 224-3438 करोड़, 277-7559 करोड़
ग्वालियर, 06-119 करोड़, 17-808 करोड़, 20-937 करोड़, 38-625 करोड़, 81-2492 करोड़
सतना, 05-267 करोड़, 08-238 करोड़, 31-530 करोड़, 24-346 करोड़, 68-1383 करोड़
सागर, 02-130 करोड़, 32-535 करोड़, 27-1343 करोड़, 29-114 करोड़, 90-2123 करोड़
उज्जैन, 06-52 करोड़, 09-244 करोड़, 37-1043 करोड़, 31-435 करोड़, 83-1776 करोड़
कुल, 20-659 करोड़, 99-5908 करोड़, 237-10949 करोड़, 469-8160 करोड़, 825-25668 करोड़
-------
वर्जन
स्मार्ट सिटी के तहत स्मार्ट सडक़ निर्माण से लेकर चार मिनी स्पोट्र्स काम्प्लेक्स, स्टेडियम, कन्वेंशन सेंटर, इंटीमेट सेंटर जैसे विकास के काम किए जा रहे हैं। कई बड़े प्रोजेक्ट का काम पूरा होने को है। अक्टूबर 2022 के बाद शहर की तस्वीर बदली नजर आएगी।
निधि सिंह राजपूत, सीईओ, स्मार्ट सिटी जबलपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.