अचानक बदला मौसम, जबलपुर में हुई झमाझम बारिश

तापमान गिरा, तेज हवाएं चलने से बढ़ गई ठंड, गरज-चमक के साथ अभी और बारिश की संभावना

By: shivmangal singh

Published: 01 Mar 2020, 09:46 PM IST

जबलपुर। दिन भर मौसम साफ रहने के बाद रविवार को रात में लगभग साढ़े आठ बजे अचनाक जबलपुर शहर का मौसम बदल गया। आसमान में बादल उमडऩे-घुमडऩे लगे और तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश शुरू हो गई। अचानक शुरू हुई बरसात से लोगों को काफी दिक्कत हुई। तेज हवाएं चलने और बारिश होने की वजह से तापमान में भी अचानक गिरावट आ गई और ठंड बढ़ गई। शाम को लगभग 30 डिग्री सेल्सियस और अचानक यह 21 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार बारिश होने और तेज हवाएं चलने का पहले से ही अनुमान था। प्रदेश में मौसम लगभग एक हफ्ते से ही अपने पल-पल रंग बदल रहा है। शनिवार शाम को प्रदेश के भिण्ड और मुरैना जिले में जोरदार बारिश हुई थी। बारिश के साथ-साथ ओलावृष्टि होने से फसलों को काफी नुकसान भी पहुंचा है। इसके पहले महाकौशल में ही कई जिलों में जिसमें मंडला, डिंडोरी, उमरिया, शहडोल, कटनी और जबलपुर के आसपास के इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि हुई थी। इस वजह से फसलों को काफी नुकसान पहुंचा था। जबलपुर में बारिश होने का अनुमान पहले से ही जताया जा रहा था, लेकिन रविवार को दिनभर मौसम साफ रहा। तेज धूप निकली थी लेकिन शाम को अचानक मौसम में बदलाव देखा गया और रात में साढ़े आठ बजते-बजते तेज बारिश होने लगी। जिससे मौसम में अचानक ठंड बढ़ गई।
संडे की वजह से बाजार में थी भीड़, मच गई अफरातफरी
संडे होने की वजह से बाजार में काफी भीड़ थी। लोग खरीददारी करने के लिए निकले हुए थे लेकिन अचानक बारिश शुरू होने से लोगों को संभलने का मौका नहीं मिला, जिससे बाजार में अफरातफरी का माहौल बन गया। लोग इधर-उधर छिपने की कोशिश करते देखे गए। लोगों ने दुकानों और शेड के नीचे शरण ली।
गोकुंभ में भी स्थिति बिगड़ी
जिस समय बारिश शुरू हुई उस दौरान गो कुंभ में भी काफी भीड़ थी। बारिश शुरू होने से वहां की अफरातफरी की स्थिति बन गई। बारिश होने के बाद लोग वहां से पलायन करने लगे। कुछ देर में ही कुंभस्थल से काफी भीड़ छंट गई। सर्दी का मौसम होने की वजह से भी लोग उमड़ते बादल देखकर घरों की ओर रुख कर गई।

फसल को नुकसान पहुंचने की आशंका
रविवार को रात में हुई अचानक बारिश की वजह से फसल को नुकसान पहुंचने की आशंका है। जबलपुर और आसपास हुई बारिश के दौरान ओलावृष्टि तो नहीं हुई लेकिन गेहूं और सरसों की फसल को इस बारिश की वजह से नुकसान पहुंच सकता है। बारिश होने और तेज हवाएं चलने की वजह से गेहूं और सरसों की फसल के खेत में पसरने की आशंका है। इस वजह से गेहूं की क्वालिटी और उत्पादन पर भी विपरीत असर पडऩे की आशंका है।

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned