एरियल बम की सप्लाई पर रोक लगी तो बढ़ गई जीआइएफ-ओएफके की मुसीबत

जबलपुर की निर्माणियों मं ढलाई और उत्पादन पर रोक, ओएफबी से प्रबंधन कर रहा चर्चा

 

 

By: shyam bihari

Published: 14 Sep 2020, 09:07 PM IST

जबलपुर। वायुसेना के सबसे शक्तिशाली हथियारों में शामिल 100-120 किग्रा एरियल बम की सप्लाई पर रोक लगने से ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) और ग्रे आयरन फाउंड्री (जीआइएफ) की मुसीबत बढ़ गई है। इस बम की बॉडी की ढलाई और उसमें बारूद के भरण का काम इन निर्माणियों में ही होता है। वायुसेना ने फिलहाल सप्लाई पर रोक लगाई है। ऐसे में जिन सेक्शन में यह काम होता था, वहां की मशीनें बंद हो गई हैं। कर्मचारियों के सामने काम की कमी का संकट आ गया है। जीआइएफ पर संकट ज्यादा है। क्योंकि एरियल बम बॉडी उसका मुख्य उत्पाद है। इसका व्यापक काम यहां पर होता है। बड़ी-बड़ी फर्निश मशीनों में बम बॉडी की ढलाई होती है। यह रुक गई है। फर्निश मशीनें भी बंद कर दी गई हैं। इसी प्रकार ओएफके में जिन सेक्शन में बारूद भरने का काम किया जाता है, वहां भी परेशानी खड़ी हो गई है। हालांकि वहां दूसरे बम हैं जिनक काम निरंतर चलता है। ऐसे में कर्मचारियों को वहां शिफ्ट कर दिया जाएगा, लेकिन जीआइएफ के सामने फिलहाल कोई रास्ता नहीं है। इसलिए प्रबंधन लगातार आयुध निर्माणी बोर्ड से संपर्क में है।
इंटर फैक्ट्री डिमांड वाला उत्पाद
जीआइएफ सहायक निर्माणी के तौर पर काम करती है। फाउंड्री को ओएफके से इंटर फैक्ट्री डिमांड (आइएफडी) के जरिए बम बॉडी की ढलाई का काम मिलता है। बॉडी को तैयार कर भेजा जाता था। फिर ओएफके में बारूद भरने के काम के उपरांत एयरफोर्स को सप्लाई किया जाता है। सूत्रों ने बताया कि जीआइएफ के पास इस वित्तीय वर्ष में करीब 5 हजार एरियल बम बॉडी बनाने का लक्ष्य मिला था। 15 सौ से अधिक बम बॉडी तैयार कर उसे ओएफके भेज दिया गया था। वहीं 400 से 500 बम बॉडी पाइप लाइन में थीं। ऐन मौके पर उस पर रोक लगा दी गई। इस वजह से ओवरटाइम भी कम कर दिया गया है। जीआइएफ के जनसम्पर्क अधिकारी राजाराम सालके ने बताया कि एरियल बम की ढलाई पर अस्थाई रोक लगाई गई है। निश्चित रूप से रोक के कारण उत्पादन पर असर होगा। पुन: इसकी ढलाई की अनुमति प्राप्त करने के लिए आयुध निर्माणी बोर्ड से संपर्क किया जा रहा है।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned