इस प्राचीन नदी के किनारे रहते थे 'जूरासिक पार्क' में दिखाए गए डायनासोर

  इस प्राचीन नदी के किनारे रहते थे 'जूरासिक पार्क' में दिखाए गए डायनासोर
narmada

फिल्म में दिखाए गए भयानक T Rex डायनासोर जैसा मांसाहारी विध्वंसक डायनासोर कभी भरूच से लेकर जबलपुर तक एक छत्र राज किया करता था।

जबलपुर। धरती की प्राचीनतम नदियों में से एक नर्मदा नदी में अब भी अनेक रहस्य छिपे हुए हैं। नर्मदा से जुड़ा प्रत्येक तथ्य रोचक और अद्भुत है। ठीक वैसे जैसे करोड़ों वर्ष पहले नर्मदा नदी के आसपास स्थित जंगलों में डायनासोर के होने की बात कही जाती है। इस दिशा में अनेक रिसर्च की जा चुकी हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही रोचक तथ्यों के बारे में बता रहे हैं।

यह आश्चर्यजनक, किंतु सत्य है कि नर्मदा घाटी में कभी महागज-स्टेगोडॉन, शुतुरमुर्ग हिप्पोपोटेमस आदि जीव रहा करते थे, जो आज भारत में ही नहीं पाए जाते हैं। जबलपुर में डायनासोर का पहला जीवाश्म अनेक वर्षों पहले खोजा जा चुका था। वैज्ञानिकों के अनुसार स्टीवन स्पिलबर्ग की प्रसिद्ध फिल्म जूरासिक पार्क में दिखाए गए भयानक T Rex डायनासोर जैसा मांसाहारी विध्वंसक डायनासोर कभी भरूच से लेकर जबलपुर तक एक छत्र राज किया करता था। 



वैज्ञानिकों ने इसे नर्मदा घाटी का राजसी डायनासोर कहते हुए इसका नाम राजासॉरस नमर्देन्सिस किया था। इसके अतिरिक्त भी नर्मदा घाटी से शाकाहारी और मांसाहारी डायनासोरों की कई प्रजातियों की पहचान वैज्ञानिकों द्वारा की गई है। जबलपुर में ऐसे अनेक स्थान है जहां उनके अण्डे पाए गए हैं।

narmada


नर्मदा नदी में एक ऐसा पत्थर है जिसे कभी वैज्ञानिकों ने डायनासोर समझ लिया था। भेड़ाघाट वॉटर फॉल के एक दम सामने स्थित पत्थर का आकार काफी बड़ा है। इसकी रूपरेखा भी डायनासोर से मिलती है। इससे पूर्व नर्मदा नदी और जबलपुर के आसपास डायनासोर होने के प्रमाण मिल चुके थे। जिसके बाद वैज्ञानिकों ने इसे भी डायनासोर का जीवाश्म समझा और रिसर्च की गई। नर्मदा के इस पत्थर पर लंबे समय तक खोज की गई थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned