प्रश्न पत्र खोलने में हुई गफलत तो नपेंगे शिक्षक

लिफाफे खोलने के पूर्व बरतें पूरी सर्तकता, हरदा की घटना के बाद माशिमं आया हरकत में

By: Mayank Kumar Sahu

Published: 03 Mar 2019, 08:01 PM IST

जबलपुर।
माध्यमिक शिक्षा मंडल ने प्रश्न पत्रों के बंडल खोलने, वितरण में लापरवाही को लेकर अब सख्त रुख अपनाया है। प्रश्न पत्रों को खोलने में यदि कोई गफलत होती है तो संबंधित अधिकारियों पर निलंबन की गाज गिरेगी। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने हाल ही में एक जिले में प्रश्न पत्र खोलन के दौरान हुई गफलत के बाद जिलो को सख्त निर्देश जारी किए हैं। माध्यकि शिक्षा मंडल ने कहा कि प्रश्न पत्रों को थाने से निकालने के दौरान उनके वितरण में पूरी गंभीरता बरती जाए। चूंकि १०वीं एवं १२वीं की बोर्ड परीक्षाओं के साथ ९वीं एवं ११वीं की भी परीक्षाएं संचालित हो रही हैं। दोनों ही परीक्षाएं बोर्ड आधारित हैं। प्रश्न पत्रों को थाने से निकालने से लेकर हाल में छात्रों के वितरण करने तक में पूरी तरह गंभीरता बरतने के निर्देश दिए हैं।
हरदा जिले में सामने आया मामला
बताया जाता है हरदा जिले में कक्षा 9वीं के छात्रों को 12वीं अंग्रेजी का पर्चा बांट दिया गया। बच्चों ने भी परचा हल कर लिया और उत्तर पुस्तिकाएं भी स्ट्रांग रूम में जमा हो गर्इं। बाद में जब थाने से स्कूल में फोन आया कि और बताया गया कि स्कूल में जो पर्चा हल हुआ वह 9वीं का नहीं 12वीं का है। इसके बाद पूरे प्रदेश में हडक़ंप मच गया।
नए प्रश्न पत्र पहुंचाए जाएंगे
गोपनीय सामग्री के साथ वितरित किए गए अंग्रेजी के प्रश्नपत्रों की जगह अब नए प्रश्नपत्र जिलों में पहुंचाए जाएंगे। यह प्रश्नपत्र सात मार्च को जिला मुख्यालय स्थित समन्वय संस्था से वितरित किए जाएंगे। इसके लिए सभी विभागीय अधिकारियों और केंद्राध्यक्षों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। विदित हो कि दसवीं कक्षा में संस्कृत विषय का पर्चा लीक होने का मामला सोशल मीडिया में आने से हडक़ंप मचा था। बाद में माशिमं ने इसे फर्जी करार दिया।

Show More
Mayank Kumar Sahu Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned