सैकड़ों किमी दूर भी दिखा वायु का असर, 15 मिनट में 10.2 मिमी बारिश

सैकड़ों किमी दूर भी दिखा वायु का असर, 15 मिनट में 10.2 मिमी बारिश
rain

Shyam Bihari Singh | Publish: Jun, 14 2019 08:00:00 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

जबलपुर में पारा करीब 4 डिग्री लुढ़का

जबलपुर। राजस्थान, पंजाब, मध्यप्रदेश सहित पांच राज्यों से होकर बंगाल की खाड़ी तक बनी द्रोणिका और उत्तरी मध्यप्रदेश के ऊपर बना कम दबाव के क्षेत्र से गुरुवार को दोपहर बाद दो किश्तों में झमाझम बारिश हुई। इससे पहले शाम को करीब 4.20 बजे 45-50 किमी की गति से धूल भरी तेज आंधी चली। शाम को अंधड़ इतना तेज था कि लोगों की छप्पर हिलने लगी। कुछ ही देर में बारिश शुरू हो गई। बड़ी-बड़ी बूंद के साथ तेजी से बौछार पड़ी। अधारताल सहित कुछ क्षेत्रों में करीब 10 मिनट तक ओले भी गिरे। 15 मिनट के अंदर करीब 10.2 मिमी बारिश हो गई। दूसरी किश्त में रात को सवा नौ बजे बादल फिर बरसे। 15 मिनट तक तेज बौछारें पड़ीं। आंधी, बारिश का असर तापमान पर भी पड़ा। बुधवार के मुकाबले पारा करीब चार डिग्री लुढ़क-कर अधिकतम 41.3 डिग्री हो गया। गर्मी से परेशान लोग राहत की आस जगी।
कुछ देर के लिए ठहर गया यातायात
शहर में दोपहर 4.20 बजे के करीब अचानक तेज हवा चलने लगी। तेज गति से चली रेत और धूल भरी अंधड़ के कारण राहगीरों को रुकना पड़ गया। उसके बाद झमाझम बारिश हुई। करीब आधे घंटे तक अंधड़ और फिर लगभग 15 मिनट तक हुई तेज बारिश के दौरान यातायात तकरीबन थम गया।
गुरुवार को गर्मी के साथ ही उमस ने परेशान किया। सुबह धूप निकलने के साथ ही चिपचिपी गर्मी लगी। बादलों के कारण दोपहर के करीब 3 बजे अधिकतम तापमान रेकॉर्ड हुआ। शाम को आंधी और बारिश के बाद तापमान तेजी से गिरा। शाम को 5.30 बजे यह 27 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड हुआ। मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार को अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री अधिक रहा। न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 28.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। आद्र्रता सुबह 51 और शाम को 93 प्रतिशत थी। प्रदेश का सर्वाधिक तापमान दमोह, रायसेन, राजगढ़ में 46 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।
तूफान, गरज-चमक के साथ बारिश की संभावना
मौसम विभाग में वैज्ञानिक सहायक देवेंद्र कुमार तिवारी के अनुसार प्रदेश के उत्तरी हिस्से में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण गुरुवार की शाम को तेज हवा और बौछारे पड़ी। बंगाल की खाड़ी में भी एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके कारण शुक्रवार को जिले में कहीं-कहीं दोपहर बाद या शाम को तूफान व गरज-चमक के साथ वर्षा की संभावना है।
अंधड़ और बारिश के चलते शहर के कई स्थानों में पेड़ गिरे। नगर निगम का अमला रात भर पेड़ों की डाल काटकर उन्हें हटाने में जुटा रहा। शाहनाला के पास नगर निगम के निर्माणाधीन मकान पर पेड़ गिरा। गढ़ा पुरवा दुर्गामंदिर के पास एक मकान की छत पर इमली का पेड़ गिर गया। इसी तरह रामपुर गुरुद्वारे के पास मकान में पीपल का पेड़ गिरने की घटना हुई। सैनिक सोसायटी कम्पाउंड में भी पीपल का पेड़ गिरने से लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम, फायर बिग्रेड को सूचना दी। निगम प्रशासन का कहना था कि पेड़ गिरने की घटना से कहीं कोई हताहत नहीं हुआ। देर रात तक निगम के कर्मचारी पेड़ को हटाने में जुटे रहे।
रमनगरा प्लांट में भी नुकसान
अंधड़ से नगर निगम के रमनगरा जलशोधन संयत्र के पास भी क्षति पहुंची है। पेड़ों की डगाल गिरने की घटना से बिजली की लाइन क्षतिग्रस्त हुई। एक दिन पहले भी रमनगरा प्लांट में घटना हुई थी। इसके चलते विद्युत लाइनें क्षतिग्रस्त होने से कई क्षेत्रों में जलापूर्ति प्रभावित हुई थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned