व्यापारी पर हमला करने वाले को राजनीतिक दबाव में छोड़ा

sudarshan ahirwa

Publish: Jan, 14 2018 06:30:00 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
व्यापारी पर हमला करने वाले को राजनीतिक दबाव में छोड़ा

व्यापारियों ने किया इंद्राना चौकी का घेराव, बंद रखीं दुकानें

जबलपुर. इंद्राना। इंद्राना बस्ती के एक व्यापारी पर फरसे से हमला करने वाले दो आरोपितों में से एक को राजनीतिक दबाव के चलते छोडऩे से व्यापारियों का आक्रोश फूट पड़ा। आक्रोशित व्यापारियों ने शनिवार को आरोपित की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अपने प्रतिष्ठान बंद रख इंद्राना चौकी का घेराव कर दिया। व्यापारी करीब दो घंटे तक विरोध, प्रदर्शन और नारेबाजी करते रहे। पुलिस अधिकारियों ने व्यापारियों को कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया, तब कहीं जाकर वे मानें और विरोध, प्रदर्शन बंद किया।

फोन आते ही आरोपित को छोड़ा
व्यापारी उदयचंद्र जैन, विनय कुशवाहा, डालचंद्र सैनी, महेश ठाकुर, मिथुन सेन, मनमोहन असाटी, रमेश जैन का आरोप था कि घटना के बाद पुलिस दूसरे हमलावर को थाने तो लेकर आई, लेकिन मोबाइल पर फोन आते ही राजनीतिक दबाव के कारण उसे छोड़ दिया। पुलिस जानबूझकर काउंटर मामला बना रही है।

यह है मामला
जानकारी के अनुसार किराना व्यापारी गोविंद असाटी (५१) को बस्ती के दिलीप बर्मन और सतीश बर्मन से लेन-देन का करीब ४० हजार रुपए लेना था। शुक्रवार दोपहर गोविंद अपनी दुकान जा रहा था। इसी दौरान दिलीप और सतीश ने गोविंद पर फरसे से हमला कर दिया। अचानक हुए हमले में गोविंद की गर्दन और सिर में घातक चोटें आईं। सिर में आठ टांके लगने के बाद उसकी हालत गंभीर होने पर डॉक्टरों ने उसे मेडिकल रैफर कर दिया। पुलिस ने सतीश बर्मन के खिलाफ धारा ३२४ का मामला दर्ज तो किया, लेकिन दिलीप को बिना कार्रवाई के छोड़ दिया।

व्यापारी पर हमले के मामले में दोनों आरोपितों के खिलाफ धारा ३२४, २९४, ५०६ का मामला दर्ज है। एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है, वहीं दूसरे की तलाश की जा रही है।
दीपक डेहरिया, चौकी प्रभारी, इंद्राना

................

युवक की हत्या को पुलिस बता रही एक्सीडेंट
पनागर. ग्राम कंदराखेड़ा के ग्रामवासियों ने शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर ग्राम के एक युवक की ८ जनवरी को गई हत्या के मामले में कार्रवाई की मांग की। ग्रामीणों ने ज्ञापन में बताया कि ग्राम निवासी मौसम सिंह ८ जनवरी की रात १० बजे पीपल के पेड़ के पास आग ताप रहा था, तभी ग्राम के एक व्यक्ति ने गाली-गुफ्तार करते हुए उस पर गाड़ी चढ़ा दी, जिससे उसकी मौत हो गई। इसकी शिकायत करने पर भी पनागर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। न ही गवाहों के बयान लिए। पुलिस हत्या को वाहन दुर्घटना बताकर मामले को रफादफा करने के फिराक में हैं। ग्रामीणों ने पुलिस अधीक्षक से जांच कराकर प्रकरण दर्ज करने की मांग की है।

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned