अंग्रेजों की गुनाह पर अब जागी जनता, टूटेगा डीएफओ कार्यालय

अंग्रेजों की गुनाह पर अब जागी जनता, टूटेगा डीएफओ कार्यालय
चम्बल के रौद्र रूप ने बर्बाद कर दी बस्तियां,चम्बल के रौद्र रूप ने बर्बाद कर दी बस्तियां,चम्बल के रौद्र रूप ने बर्बाद कर दी बस्तियां

Abhimanyu Chaudhary | Updated: 19 Sep 2019, 12:56:48 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

राजा शंकर शाह कुंवर रघुनाथ शाह का बनेगा प्रेरणा केंद्र, पांच करोड़ से 52 फुट ऊंचा होगा स्मारक

 

जबलपुर, भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों ने क्रांतिकारी राजा शंकर शाह कुंवर रघुनाथ शाह को तोप के मुंहाने पर बांधकर शहीद कर दिया था। इस शहादत की याद में जनता की मांग पर मप्र सरकार ने शहादत स्थली पर प्रेरणा केंद्र बनाने का निर्णय किया है। आदिम जाति कल्याण मंत्री ओमकार सिंह मरकाम ने शहादत दिवस पर घोषणा की कि गोंडवाना साम्राज्य के 52गढ़ थे, पांच करोड़ रूपए में 5500 वर्गफुट में 52 फुट ऊंचा स्मारक बनाया जाएगा।

अंग्रेजों के जमाने की डीएफओ कार्यालय की बिल्डिंग के बंदी गृह को वन विभाग ने आदिम जाति कल्याण विभाग को प्रेरणा केंद्र बनाने के लिए हस्तांरित किया है। मुख्यमंत्री मंत्री एवं मुख्य सचिव के निर्देश पर पीसीएफ मप्र जेके मोहंति ने सीसीएफ को पत्र लिखकर वनमंडल कार्यालय में आशिंक भवन की बजाए पूरे भवन को प्रेरणा केंद्र के लिए देने के निर्देश दिए। अब डीएफओ कार्यालय तोड़कर प्रेरणा केंद्र बनाया जाएगा।

कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा, राजा शंकर शाह कुंवर रघुनाथ शाह की स्मृति को यादगार बनाने में हर संभव प्रयास करेंगे। विधायक विनय सक्सेना ने 10 लाख रूपए से प्रेरणा केंद्र का कार्य शुरू कराने की घोषणा की। कार्यक्रम में महापौर स्वाति गोडबोले, नंदिनी मरावी, अशोक मसकोले, भपेंद्र मरावी, नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष राजेश सोनकर एवं नगर निगम निगम अध्यक्ष सुमित्रा गोंटिया मौजूद थीं।

कई जिलों से आए सैकड़ों लोग
राजा शंकर शाह कुंवर रघुनाथ शाह के 161 वें शहादत दिवस के मौके पर रेलवे स्टेशन स्थित शहादत स्थली पर अनेक संगठनों के काफी संख्या में लोगों ने उन्हें नमन किया। वन विभाग के कार्यालय स्थित राजा के बंदी गृह में सुबह से पूजन अर्चन करने वालों का तांता लगा रहा। जबकि उनकी प्रतिमा के समक्ष आयोजित सभा में बलिदान को याद किया गया।
भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों ने राजा शंकर शाह कुंवर रघुनाथ शाह को तोप के मुंहाने पर बांधकर शहीद कर दिया था। जबलपुर के अलावा मंडला, डिंडोरी, बैतूल, होशंगाबाद, रायसेन, बालाघाट सहित कई जिलों से आए लोगों ने शहादत स्थली पर शीश झुकाया। बंदी गृह में पहुंचने वाले तमाम लोगों की शहादत की याद में आंखे नम हो गई।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned