क्या हालत हो गई है? जिम्मेदार कोरोना संक्रमितों की गिनती तक नहीं कर पा रहे

जबलुर में संक्रमित के रिपीट टेस्ट के अलग पॉजिटिव केस में गिनती से एक दिन में बढ़ गए 303 मरीज

 

By: shyam bihari

Published: 16 Oct 2020, 09:15 PM IST

जबलपुर। कोरोना नमूने की पॉजिटिव रिपोर्ट के आधार पर संक्रमित की काउंटिंग से जबलपुर जिले में ग्राफ में अचानक उछाल आया। कुल संक्रमित की संख्या 12 हजार पार कर गई। दरअसल यह पूरा मामला कोरोना पॉजिटिव केस की काउंटिंग में आइसीएमआर और जिला प्रशासन के अलग-अलग आधार मानने से आया। आइसीएमआर की ओर से लैब में जांचें गए नमूने के आधार पर पोर्टल में कोरोना पॉजिटिव के आंकड़े अपडेट किए गए। इससे एक कोरोना संक्रमित का रिपीट टेस्ट पॉजिटिव आने पर वह नमूने के आधार से नए कोरोना मरीज में जुड़ जाएगा। जबकि जिला प्रशासन की ओर से मरीज के आधार पर पॉजिटिव जोड़ें गए। इसमें एक मरीज का दो से तीन बार रिपीट टेस्ट होने और पॉजिटिव आने पर उसे एक इकाइ ही माना गया। इस जानकारी से राज्य सरकार के पोर्टल में आइसीएमआर के पोर्टल के अपेक्षाकृत कम कोरोना केस हो गए। जिले के कुल कोरोना संक्रमित के आंकड़ों में फर्क आने से भ्रम की स्थिति बन रही थीं। जांच में गड़बड़ पकड़ आने के बाद गुरुवार को आंकड़ों में सुधार से एक दिन में 303 नए कोविड केस बढ़ गए। समायोजन से संक्रमित के आंकड़ों का अंतर मिट गया।

कोरोना संक्रमण दर बढऩे पर संक्रमित के स्वस्थ्य होने के नियम में बदलाव हुए थे। 10 दिन आइसोलेशन के बाद बिना रिपीट टेस्ट के संक्रमित को डिस्चार्ज किया गया। लेकिन कोरोना संक्रमण के शुरुआती काल में रिपीट टेस्ट निगेटिव आने के बाद ही मरीज को डिस्चार्ज किया जाता था। इस फेर में प्रांरभ में मिले कोरोना मरीज का 14 दिन बाद रिपीट टेस्ट होता था। इसमें पॉजिटिव आने पर 4-5 दिन के अंतर में दोबारा रिपीट टेस्ट होते थे। इस प्रक्रिया में एक मरीज के 10 से ज्यादा बार भी रिपीट टेस्ट हुए थे। इनके नमूने की जांच कर रही आइसीएमआर लैब नमूने के आधार पर प्रतिदिन की रिपोर्ट में पॉजिटिव केस शामिल करते थे। एक ही मरीज का रिपीट टेस्ट पॉजिटिव में जोड़े जाने से संक्रमित की संख्या बढ़ गई थीं। आइसीएमआर के आंकड़ों के अनुसार गुरुवार को जिला प्रशासन ने रिपीट टेस्ट वाले 303 कोरोना केस को अब तक मिले संक्रमित में जोड़ा है। रिपीट टेस्ट वाले मरीज स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हो चुके है। इस लिहाज से 303 केस स्वस्थ्य होने वाले मरीजों के आंकड़े में शामिल किए गए है। इससे जिले में अब तक स्वस्थ्य होने वाले कोरोना केस बढ़कर 10960 हो गए है। पॉजिटिव और डिस्चार्ज केस में बराकर आंकड़े जोडऩे से रिकवरी रेट और बेहतर हो गया है।

shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned